• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Dhar
  • For the first time in seven years, so far 2 lakh 64 thousand metric tons of wheat has been purchased, average of the raj is 7 thousand 135 metric tons.

सुकूनभरी खबर / सात साल में पहली बार अब तक 2 लाख 64 हजार मीट्रिक टन गेहूं की खरीदी, राेज औसत 7 हजार 135 मीट्रिक टन तुल रहा

For the first time in seven years, so far 2 lakh 64 thousand metric tons of wheat has been purchased, average of the raj is 7 thousand 135 metric tons.
X
For the first time in seven years, so far 2 lakh 64 thousand metric tons of wheat has been purchased, average of the raj is 7 thousand 135 metric tons.

  • क्याेंकि.... इस साल 56 इंच बारिश हाेने से जिले में गेहूं का रकबा 2 लाख 10 हजार हेक्टेयर में बढ़ा है

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 06:20 AM IST

धार. धार के लिए काेराेना संकट के बीच सुकूनभरी खबर यह है कि इस बार अनाज की भरपूर आवक हो रही है। सात साल में पहली बार साेसायटियाें में गेहूं की आवक 2 लाख मीट्रिक टन के पार पहुंच गई है। यह अब तक रिकाॅर्ड है। क्याेंकि पिछली बार 36 हजार और इससे पहले के छह सालाें में एक लाख मीट्रिक टन के अंदर खरीदी हुई है। 

राेजाना खरीदी का अनुपात निकालने पर सामने आया है कि लाॅकडाउन के इस दाैर में 7 हजार 135 मीट्रिक टन खरीदी राेज हाे रही है। जबकि पिछले साल सिर्फ 600 और वर्ष 2013-14 से 2018-19 तक एक से पांच हजार मीट्रिक टन ही उपज खरीदा जा रहा था। इस साल 56 इंच बारिश हाेने से गेहूं का रकबा 2 लाख 10 हजार के करीब बढ़ा है। यानी जिले के करीब दाे लाख किसानाें में से हर किसान ने अपनी जमीन के कुछ हिस्से या किसी ने ताे पूरी जमीन पर गेहूं लगाएं हैं। अमूमन हाेली बाद से समर्थन मूल्य पर खरीदी शुरू हाे जाती है, लेकिन इस बार लाॅकडाउन की वजह से खरीदी लगभग एक महीना लेट हाे गई। 15 अप्रैल से जिले के 103 केंद्राें पर खरीदी शुरू हुई। पहले ही दिन 200 से ज्यादा किसानाें से पांच हजार क्विंटल गेहूं खरीदा गया था। इसके बाद भी राेज बंपर आवक हुई।

53 हजार मीट्रिक टन अनाज अब भी खुले में पड़ा

कुल 2 लाख 61 हजार में से 2 लाख 8 हजार मीट्रिक टन अनाज परिवहन हाे चुका है। यानी 53 हजार मीट्रिक टन गेहूं अब भी खुले में पड़ा है। डीएमओ अंकित तिवारी ने बताया इस खरीदी लक्ष्य तीन लाख मीट्रिक टन रखा गया था। एक माह में खरीदी लक्ष्य के करीब है। ऐसे में आंकड़ा बढ़कर साढ़े तीन लाख तक पहुंच सकता है। परिवहन की धीमी गति से किसानाें काे भुगतान में परेशानी हाे रही है। किसान मुकेश मुकाती ने बताया 9 मई काे मैसेज मिला था। 11 मई काे तीसगांव केंद्र पर 116 क्विंटल उपज तुलाई थी। जिसका बिल दाे लाख 23 हजार 300 रु. का बना था, लेकिन खाता चेक करने पर उपज की राशि नहीं आई। मुकाती ने बताया केंद्र पर पता करने पर बताया गया कि उपज भेजने के साथ भुगतान की पूरी प्रक्रिया भी कर दी गई है। भुगतान का स्वीकृति पत्रक भी बन चुका है। फिर भी राशि जमा नहीं हुई है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना