मांडू भ्रमण:मांडू पहुंचे फ्रांस के राजदूत, जहाज महल देख बोले- वेरी नाइस एंड ब्यूटीफुल प्लेस

मांडूएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • 100 जवानों के कड़े सुरक्षा पहरे में 1 घंटा 20 मिनट किया मांडू का भ्रमण

फ्रांस के राजदूत इमैनुएल लेनिन अपनी पत्नी के साथ रविवार दोपहर में मांडू पहुंचे। लगभग 2 घंटे मांडू में बिताए। मांडू के इतिहास को जाना। वे महेश्वर से मांडू पहुंचे थे। उन्हें कड़े सुरक्षा पहरे में 1 घंटा 20 मिनट तक मांडू के विभिन्न दर्शनीय स्थलाें का भ्रमण कराया गया। मालवी परंपरा के अनुसार उनका स्वागत कर खुरासानी इमली भेंट की गई।

इस बीच कुछ देर के लिए ऐतिहासिक महल बंद होने से रविवार को यहां सैलानी परेशान हुए। मांडू के जहाज महल पहुंचकर फ्रांस के राजदूत और और उनकी पत्नी ने कहा वेरी नाइस एंड ब्यूटीफुल प्लेस।

फ्रांस के हालातों को देखते हुए सुरक्षा का कड़ा पहरा रहा

फ्रांस राजदूत के मांडू आगमन और वर्तमान फ्रांस के हालातों को देखते हुए प्रशासन किसी प्रकार के रिस्क नहीं लेना चाहता था। मांडू के चप्पे-चप्पे पर पुलिस बल तैनात था। यहां तक कि पर्यटक और मीडिया को भी दूर रखा गया। करीब 100 पुलिसकर्मियों के साथ इंदौर के डीआईजी चंद्रशेखर सोलंकी, धार एसपी आदित्यप्रताप सिंह सुरक्षा का मोर्चा संभाले हुए थे।

भारतीय परंपरा काे अपनाने वाली मारी ने किया स्वागत

भारतीय परंपरा को अपनाकर भारतीय ग्रहणी बनी फ्रांस की मारी और मांडू के कई भाषाओं शैलियों में गाइड करने वाले उनके पति धीरज चौधरी तथा एसपी आदित्य प्रताप सिंह ने गुलदस्ता और इमली देकर की लेनिन व उनकी पत्नी का अभिवादन किया। मारी और गाइड धीरज ने फ्रांसीसी भाषा में मांडू का इतिहास बताया।

इधर फ्रांस की मारी मांडू के गाइडों को फ्रांसीसी भाषा सिखा रही है। उन गाइडों को भी फ्रांस के राजदूत से मिलाया और कहा ये भी फ्रांस की भाषा में गाइड कर रहे हैं। फ्रांस के राजदूत ने यहां जहाज महल और रानी रूपमती महल को देखा। उन्होंने कहा कि मांडू आ कर मैं बहुत खुश हूं। प्राचीन इतिहास सुन यहां की समृद्धि की कल्पना करना भी मुमकिन नहीं है।

खबरें और भी हैं...