डीएफओ ने ग्रामीणाें काे समझाइश दी:दो वर्षीय बालिका का शिकार करने वाले तेंदुए काे पकड़ने तीन पिंजरे रखे

धार2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कड़दा के जंगल में डीएफओ ने पहुंच कर ग्रामीणाें काे दी समझाइश

कड़दा के जंगल में दाे वर्षीय बालिका का शिकार करने वाले तेंदुए काे पकड़ने के लिए वन विभाग ने बुधवार देर शाम तीन पिंजरे रखे। रालामंडल से रेस्क्यू टीम भी पहुंची। टीम ने आसपास के क्षेत्र में सर्चिंग करते हुए पगमार्क देखे।

पिंजरे में तेंदुए काे फांसने के लिए कुत्ते का पिल्ला रखा है। देर शाम डीएफओ अक्षय राठाैर ने भी पहुंच कर घटनास्थल देख बालिका के परिजनाें व वनवासी ग्रामीणाें से चर्चा की। अब तक इस क्षेत्र में हुई घटनाओ में बच्चाें का ही शिकार करने से ग्रामीणाें काे जंगल में जाते समय अपने साथ बच्चाें काे नहीं लेकर जाने की सलाह दी।

कड़दा के जंगल में मंगलवार शाम 5 बजे तेंदुए ने दाे वर्षीय बालिका वर्षा पिता प्रभु अमलियार काे उठा ले गया था। 16 अगस्त काे कड़दा के जंगल से लगे टांडा रेंज के पांच पिपलिया बीट में मवेशी चराने गए बालक संदीप डामाेर का तेंदुए ने शिकार किया था।

रालामंडल से पहुंची टीम ने यहां 20 दिन तक डेरा डाल रखा था टीम काे सफलता नहीं मिली थी। डीएफओ राठाैर ने बताया तेंदुआ इसी क्षेत्र में है। रालामंडल से पहुंची टीम ने मूवमेंट के आधार पर तीन पिंजरे रख दिए हैं। ग्रामीणों को समझाइश दी है जंगल में न जाए।

खबरें और भी हैं...