CM को पत्र लिखकर की मांग:विधायक बोले- आशा, ऊषा कार्यकर्ताओं को कोरोना काल का लंबित मानदेय दे सरकार

धार2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

धार के सरदारपुर विधायक प्रताप ग्रेवाल द्वारा मंगलवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान को पत्र लिखकर सरदारपुर विकासखण्ड सहित धार जिले की समस्त आशा कार्यकर्ता, ऊषा, आशा सहयोगिनी द्वारा कोरोना काल में किए गए निरंतर कार्य के लिए लंबित मानदेय शीघ्र ही प्रदान करने की मांग की है।

विधायक प्रतिनिधि विष्णु चौधरी ने बताया की पत्र मे उल्लेख किया गया है कि आशा सहयोगी कार्यकर्ता को 200 रुपए प्रति सत्र का आवासन दिया गया था, लेकिन जून से लेकर आज दिनांक तक प्रदान नहीं किया गया है एवं आशा, ऊषा सहयोगिनी पर्यवेक्षक को कोरोना काल में 1000 रुपए एवं सहयोगी को 500 रुपए प्रति महीने की राशि दी जाती थी।

वह भी जून से बंद कर दी गई है, जिससे सरदारपुर विकासखण्ड सहित धार जिले की समस्त आशा कार्यकर्ता, ऊषा, आशा सहयोगिनियों को आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसके संबंध में सरदारपुर विकासखण्ड की समस्त आशा कार्यकर्ता, ऊषा, आशा सहयोगिनी कार्यकर्ताओं द्वारा ज्ञापन देकर समस्याओं से अवगत कराया है जो कि वर्तमान परिस्थिति में वाजिब भी है। ]

आशा, ऊषा, सहयोगिनी पर्यवैक्षक द्वारा स्पष्ट कहा गया है कि जब तक पूर्व का कोरोना काल के समय का मानदेय नहीं दिया जाता है। जब तक हम कार्य नहीं करेंगे। आगामी समय मे आने वाले संभावित ओमिक्रोन की संभावनाओं को देखते हुए वैक्सीन का कार्य भी प्रभावित होगा।

इसलिए सरदारपुर विकासखण्ड सहित धार जिले की समस्त आशा कार्यकर्ता, ऊषा, आशा सहयोगिनी का कोरोना काल का लंबित मानदेय शीघ्र ही प्रदान किया जाए।