पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गो सेवा:मुंबई के ट्रस्ट ने गोशाला में 15 टन भूसा दान किया

धार13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गाेशाला पहुंचने पर भूसा खाली कराया। - Dainik Bhaskar
गाेशाला पहुंचने पर भूसा खाली कराया।
  • श्रीकृष्ण रुक्मिणी गाेशाला अमझेरा में 350 गायाें काे 30 दिन तक मिलेगा मसूर का पौष्टिक भूसा

मुंबई के श्री आदि जैन युवक चेरेटिबल ट्रस्ट ने सोशल मीडिया पर चल रहे मैसेज काे देख श्री कृष्ण-रुक्मिणी गोशाला के 350 पशुओं के लिए 15 टन मसूर का भूसा दान किया है। ट्राॅला गाेशाला पहुंचने से यहां की 350 गायाें काे 30 दिन तक यह पौष्टिक भूसा मिलेगी। दरअसल 17 मई काे यहां पुलिस व वाॅलेंटियराें ने अवैध गाेवंश से भरा एक ट्राॅला पकड़ा था। इसमें भरे 67 मवेशियाें काे गाेशाला में छाेड़ा गया था। जबकि यहां पहले से बड़ी संख्या में गायें थी। अखबाराें मे प्रकाशित समाचार व गाेशाला की स्थिति काे लेकर साेशल मीडिया पर चल रहे मैसेज काे देख ट्रस्ट ने मदद का बीड़ा उठाया। इस कार्य के िलए जैन समाजजन ने भी अपने ग्रुपाें में इस मैसेज काे वायरल किया था। इसके चलते 600 किमी दूर मुंबई के ट्रस्ट ने इसे देख इसकी जानकारी जुटाई। ट्रस्ट मंडल काे अमझेरा गांव की जानकारी नहीं थी। इसके चलते यहां के पारसनाथ जैन तीर्थ में शामिल अमिझरा पारसनाथ जैन तीर्थ से संपर्क किया। ट्रस्टी राजेश जैन उज्जैन डगवाला से संपर्क कर इसकी जानकारी जुटाई। जैन ने गोशाला के बारे में पूरी जानकारी दी। जैन ने गोशाला के भगवानदास खंडेलवाल से चर्चा कर मुंबई ट्रस्ट से लगातार संपर्क में रहे। इस तरह 10 दिन के अंतराल में लगातार संपर्क में रहने से मसूर का भूसा यहां पहुंचा। इस अनूठी पहल में नलिनी बेन, प्रवीण भाई मूथड़ा परिवार व श्री आदि जैन युवक मंडल चेरिटेबल मुंबई का सहयाेग रहा। गाेशाला समिति अध्य्क्ष चंदप्रकाश कुशवाहा, खंडेलवाल, नारायण कमोदिया आदि ने भूसे को गोशाला में खाली कराया।

खबरें और भी हैं...