पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Dhar
  • On The Fifth Day Of The Paryushan Festival, Events Were Held At Shantinath Temple, Ahu Parshvanath And Mantung Giri Shrine.

भगवान पुष्पदंत का मोक्ष कल्याण मनाकर लाड़ू चढ़ाए:पर्युषण पर्व के पांचवे दिन शांतिनाथ मंदिर, आहु पार्श्वनाथ व मानतुंग गिरी तीर्थ पर हुए आयाेजन

धार5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
धार. शहर के दिगंबर जैन मंदिर में भगवान काे लाडू चढ़ाते समाजजन। - Dainik Bhaskar
धार. शहर के दिगंबर जैन मंदिर में भगवान काे लाडू चढ़ाते समाजजन।

शहर के शांतिनाथ दिगंबर जैन मंदिर में पर्युषण पर्व के पांचवे दिन मंगलवार को जैन धर्म के 9वें तीर्थंकर भगवान पुष्पदंतजी का मोक्ष कल्याणक महोत्सव मनाया गया। मंगल अवसर पर निर्वाण कांड के वाचन के बाद भगवान के चरणों में लाडू चढ़ाए।

लाडू चढ़ाने का लाभ कांता बाबूलाल बड़जात्या व ममता सुरेंद्र काला को मिला। इसके पूर्व सुख-शांति और अच्छी वर्षा के लिए भगवान के मस्तक पर शांतिधारा डॉ. पीके जैन एवं नीलेश कासलीवाल ने की। सत्य धर्म का पूजन साैधर्म इंद्र बनकर नरेंद्र अनीता काला ने की।

दिगंबर जैन समाज के अध्यक्ष अशोक कासलीवाल ने बताया पर्व के चाैथे दिन साैधर्म इंद्र माधुरी श्रेणिक गंगवाल थे एवं शांतिधारा सुभाष गंगवाल एवं आशीष बड़जात्या ने की। दोपहर में स्वास्थ्य शिविर लगाकर डॉ. शुभम रावका ने अपनी सेवा दी।

पारस जैन गंगवाल ने बताया आहु पार्श्वनाथ क्षेत्र पर सत्य धर्म की पूजन के साथ भगवान पुष्पदंतजी को निर्वाण लाडू चढ़ाने का लाभ सोनकच्छ के शंभू सरोज झांझरी को मिला। शांतिधारा का लाभ प्रीतम जैन व अनुपम जैन को मिला। क्षेत्र पर गुरुवार को सुगंध दशमी पर्व मनाया जाएगा। दोपहर से आसपास के गांवों का जनसैलाब भगवान को धूप खेवन के लिए श्रदालु पहुंचेंगे।

मानतुंग गिरी तीर्थ क्षेत्र पर आचार्य सुव्रत सागरजी एवं चंद्रमती माताजी के सान्निध्य में दस दिवसीय पर्युषण महापर्व के पांचवे दिन उत्तम शौच धर्म पर्व व पुष्पदंतनाथजी भगवान का निर्वाण महोत्सव मनाया गया। मीडिया प्रभारी सुभाष जैन ने बताया महाराज की अभी मौन व्रत की साधना चल रही है।

शांतिधारा का लाभ अनिल जैन, संजय लुहाड़िया, पूजा में सौधर्म इंद्र बन्ने का सौभाग्य संजय ममता गंगवाल तथा निर्वाण लाडू चढ़ाने का लाभ केएल जैन परिवार को मिला। क्षुल्लिका चंद्रमती माताजी ने शौच धर्म के बारे में विस्तार से आत्म कल्याण के लिए बताया। प्रतिदिन भक्ति भाव से संगीतमय पूजन अर्चन के साथ पर्युषण पर्व मनाया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...