पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

टीकाकरण के पांच माह:जिले में सिर्फ 11 प्रतिशत को लगा पहला डोज, दूसरा तो 2 प्रतिशत को ही लग पाया

धारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिविर नहीं लगने से लाेग बिना वैक्सीन लगाए लौटे। - Dainik Bhaskar
शिविर नहीं लगने से लाेग बिना वैक्सीन लगाए लौटे।
  • 26 लाख में से दो लाख को ही लगी वैक्सीन, ये ही चाल रही तो साढ़े पांच साल लग जाएंगे, वैक्सीन की कमी से सेंटर बंद तो कहीं लोगों में जान जाने का डर

वैक्सीनेशन के मामले में जिले की गति काफी धीमे है। पांच माह में पहला डोज सिर्फ 11 प्रतिशत को लगा वहीं दूसरा डोज लगवाने तो 2 प्रतिशत लोग ही केंद्रों तक पहुंच पाए। वैक्सीनेशन की ऐसी ही गति रही तो जिले की 26 लाख की आबादी को टीका लगाने में 5 साल से ज्यादा लग जाएंगे। प्रशासन अपने स्तर पर जागरूकता कार्यक्रम चला रहा है लेकिन उसका असर ग्रामीण क्षेत्रों में नहीं दिख रहा है। लोगों में डर है कि टीका लगवाने से जान चली जाएगी। वैज्ञानिकों ने इसे खारिज किया है लेकिन प्रशासन लोगों तक इस बात को पहुंचाने में नाकाम रहा है। जिले की आबादी 26 लाख 35 हजार है। जिसमें से 2 लाख 87 हजार 501 काे पहला व दूसरा टीका लगवाने वाले 52 हजार 215 लाेग ही हैं।

टीके कम लगने का कारण ये भी... अब 84 दिन में लग रही वैक्सीन
वैक्सीनेशन कम हाेने का बड़ा कारण शासकीय नीति में बदलाव है। पहले काेविशील्ड 29 दिन में लग रहा था, जाे अब 84 दिन में लग रहा है। वहीं काे-वैक्सीन की कमी हाेने से यह डाेज 5-6 दिन में लग रहे हैं। आदिवासी क्षेत्राें में जागरुकता का अभाव हाेना भी वैक्सीनेशन कम हाेने का प्रमुख कारण है। जिले के तिरला, गंधवानी, डही, निसरपुर, धरमपुरी, मांडू व पीथमपुर क्षेत्र के आदिवासी बाहुल्य क्षेत्राें में टीकाकरण कम हुआ है।

16 जनवरी से शुरू हुआ वैक्सीनेशन

  • जिले में 16 जनवरी से फ्रंट लाइन वर्कस को वैक्सीन लगाने का महाअभियान शुरू हुआ। इसके बाद 1 मार्च से 60 प्लस, 1 अप्रैल से 45 प्लस को टीके लगाए जा रहे हैं।
  • 8 मई से 18 प्लस वालों को टीका लगाया जा रहा है। लोगों को जागरूक करने के लिए भी गांव-गांव में शिविर लगाए जा रहे हैं। सबसे ज्यादा आदिवासी क्षेत्रों में समस्या आ रही है।

ये जतन जिले में वैक्सीनेशन बढ़ाने के
काॅलेज की उत्तर पुस्तिकाएं जमा हाेने का क्रम चल रहा है। पीजी काॅलेज प्रबंधन एक प्रयाेग के तहत काॅपियां जमा करने आ रहे छात्र-छात्राओं से वैक्सीनेशन की जानकारी ले रहा है। इसके अलावा जिले के 22 केंद्राें पर काॅपियां जमा कर रहे प्राेफेसराें काे वैक्सीनेशन अनिवार्य किया गया है।

वनग्राम में लगाया शिविर
गंधवानी तहसील के वन ग्राम केली में 5 जून तक एक भी ग्रामीण ने टीका नहीं लगवाया था। पर्यावरण दिवस पर कलेक्टर आलोक कुमार सिंह गांव पहुंचे। जहां ग्रामीणों ने सड़क व राशन की मांग की थी। कलेक्टर ने सबसे पहले टीका लगवाने का सवाल किया था। ग्रामीणों ने गांव में सुविधा नहीं होने से समस्या बताई थी। कलेक्टर ने अगले ही दिन शिविर लगवा कर 200 से अधिक ग्रामीणों को टीका लगवाया ।

21 जून को 40 हजार को टीका लगाने का लक्ष्य
जिला प्रशासन ने 21 जून को जिले की 200 ग्राम पंचायत में शिविर लगाकर 40 हजार लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य रखा है।
जिले के 13 ब्लॉक में 50% टीकाकरण हुआ
जिले के 13 ब्लॉक में अब तक 50% से अधिक टीकाकरण हो चुका है। जिसमें सरदारपुर में सर्वाधिक 95 ग्राम पंचायत हैं।

खबरें और भी हैं...