मामला 200 करोड़ की विवादित जमीन का:पुलिस ने गिरफ्तार दो आरोपियों को कोर्ट में किया पेश, कोर्ट ने दिया एक दिन का रिमांड

धार2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मामला 200 करोड़ की जमीन का - Dainik Bhaskar
मामला 200 करोड़ की जमीन का

रविवार दोपहर को गिरफ्तार हुए गार्डन संचालक योगेश अग्रवाल सहित एक अन्य आरोपी को पुलिस ने कोर्ट में पेश किया। जहां से दोनों आरोपियों का रिमांड पुलिस को प्राप्त हो चुका है। हालांकि, इस बार योगेश अग्रवाल और ड्राइवर का एक-एक दिन का रिमांड पुलिस को मिला है। वहीं मुख्य आरोपी सुधीर दास और विवेक तिवारी का भी रिमांड पहले से मिला है। ऐसे में इन दोनों का भी रिमांड मिलने के बाद पुलिस इन 4 आरोपियों से क्रॉस पूछताछ करेगी। रविवार की पूछताछ पुलिस का इस प्रकरण में अहम दिन भी साबित हो सकती है। क्योंकि दो मुख्य आरोपियों का रिमांड समाप्त होने के बाद आज सोमवार को पुलिस कोर्ट में पेश किया जाएगा।

ड्राइवर के नाम रजिस्ट्री
रिमांड प्राप्त होने के बाद शाम के समय पुलिस टीम फरार आरोपी सुधीर जैन के कोर्ट रोड स्थित ऑफिस भी पहुंची। जहां करीब एक घंटे तक छानबीन की गई। पुलिस को जानकारी मिली है कि जैन के ड्राइवर के नाम कुछ जमीनों की रजिस्ट्रीयां हैं। जिसे लेकर पुलिस पूछताछ की जा रही है।

सुधीर से खरीदकर सुधीर को बेचे भूखंड
शनिवार दोपहर पुलिस गार्डन संचालक योगेश अग्रवाल को गिरफ्तार करके थाने लेकर आई। इस पूरे मामले में साजिश करने और शासकीय जमीन होने के बावजूद भी भूखंड खरीदने के मामले में पुलिस ने योगेश अग्रवाल को आरोपी बनाया है। पुलिस को पूछताछ में आरोपी योगेश ने बताया कि सन 2017-18 में उसने सुधीर दार से इस जमीन पर तीन भूखंड खरीदे थे। इस मामले में अपने आपको फंसता हुआ देख इस साल शुरुआती दिनों में तीन प्लांट सुधीर जैन को बेच दिए थे। इस तरह से करीब तीन साल तक आरोपी ने इस जमीन को अपने पास रखा। अग्रवाल ने बताया कि इन भूखंडों के आगे उनके गार्डन के सामने एक रोड जाता है। जिसका फायदा भविष्य में एक और गार्डन बनाकर उपयोग करने का था। लेकिन अपने को बचाने के चक्कर में योगेश ने इन भूखंड का तीन साल पहले वाले ही भाव में फरार चल रहे सुधीर जैन को बेच दिया।

एक ही बैंक में 8 खाते
पुलिस ने गिरफ्तार आरोपी सहित फरार मास्टर माइंड के बैंक खातों की जानकारी जुटाई। जिसमें यह बात सामने आई कि फरार सुधीर जैन के इस विवादित जमीन पर स्थित एयू बैंक में ही कुल 8 खाते हैं। आम तौर पर लोगों के एक बैंक में एक ही खाता होता है। किंतु जैन के एक ही बैंक में 8 खातें हैं। जिसकी पूरी जानकारी सोमवार तक पुलिस को मिलने की उम्मीद है। साथ ही इसी बैंक में गिरफ्तार सुधीर दास के भी दो खातें है। इन दोनों आरोपियों के खाते की जानकारी के लिए शनिवार को धार पुलिस ने पत्र लिखा था। जिसमें से अभी आरोपी सुधीर दास के एक खाते की जानकारी पुलिस को मिल चुकी है।

खाता क्रमांक 0457 का करीब 60 पेज का बैंक ट्रांजेक्शन पुलिस को मिला है। अभी इस खाते में 58 हजार रुपए शेष हैं, लेकिन पिछले तीन सालों में कई मर्तबा 5 लाख, 8 लाख से लेकर 9 लाख रुपए एक ही दिन में जमा हुए है। हालांकि, अगले ही दिन इस रुपयों को निकाल भी लिया गया। साथ ही 2019 में 10 दिन के अंदर 5-5 लाख रुपए करके कुल 40 लाख रुपए जमा हुए हैं।

खबरें और भी हैं...