धार में ईद मिलादुन्नबी के जुलूस में उपद्रव:बैरिकेड्स फांद रहे लोगों को रोका तो धक्का-मुक्की कर पत्थर फेंके, पुलिस ने लाठियों से खदेड़ा

धारएक वर्ष पहले

MP के धार में ईद मिलादुन्नबी के मौके पर बवाल हो गया है। प्रतिबंधित क्षेत्र से जुलूस निकाल रहे लोगों ने पुलिस की ओर से पहले से लगाए गए बैरिकेड्स को गिरा दिया। जब पुलिस ने रोकने की कोशिश की तो जुलूस में शामिल लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया। थोड़ी देर में पुलिस और जुलूस में शामिल लोगों के बीच झड़प हो गई और भीड़ ने पुलिस पर पत्थर फेंकना शुरू कर दिया। पुलिस ने पहले लोगों को समझाने की कोशिश की, लेकिन उपद्रव बढ़ा तो भीड़ को लाठियों से खदेड़ा गया।

अफरातफरी के बाद मौके पर बिखरे जूते-चप्पल।
अफरातफरी के बाद मौके पर बिखरे जूते-चप्पल।

मंगलवार को ईद मिलादुन्नबी के मौके पर सुबह 9 बजे कुछ लोग जुलूस निकालने के लिए गुलमोहर कॉलोनी में जुटे थे। यहां से करीब 1500 से 2000 लोग जुलूस के रूप में बस स्टैंड होते हुए धान मंडी पहुंचे। इस दौरान जिन क्षेत्रों से होकर जुलूस निकला, वहां से भी लोग शामिल होते गए। जुलूस पिंजारवाड़ी क्षेत्र में पहुंचा। वहां पुलिस ने पहले से प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित कर बैरिकेड्स लगा रखा था। जुलूस में शामिल कुछ लोगों ने बैरिकेड्स फांदने की कोशिश की। जवानों ने रोका तो उन्होंने धक्का-मुक्की कर नारेबाजी शुरू कर दी।

बैरिकेड्स फांद रहे लोगों को पुलिस ने रोका तो मचा बवाल।
बैरिकेड्स फांद रहे लोगों को पुलिस ने रोका तो मचा बवाल।

धक्का-मुक्की की खबर के बाद मौके पर मौजूद एडीएम सलोनी सिडाना व एडीशनल एसपी देवेंद्र पाटीदार ने शांतिपूर्वक जुलूस को आगे बढ़ाने को कहा, लेकिन कुछ लोग नहीं माने। पुलिस ने लाठियां भांजी, तब जाकर पत्थरबाजी बंद हुई और जुलूस आगे बढ़ा। इस दौरान नारेबाजी होती रही, हालांकि किसी प्रकार का उप्रदव नहीं हुआ।

विवाद के बाद बड़ी संख्या में लोग जमा हो गए।
विवाद के बाद बड़ी संख्या में लोग जमा हो गए।

कलेक्टर ने कहा- कार्रवाई होगी
मामले को लेकर धार के कलेक्टर डॉ. पंकज जैन ने कहा कि पुलिस जांच कर रही है। जिन्होंने नियम तोड़ा है, जुलूस खत्म होने के बाद उन पर कार्रवाई की जाएगी। जुलूस के दौरान हुई झड़प में किसी के घायल होने की सूचना नहीं है।

वहीं, धार के SP आदित्य प्रताप सिंह ने लाठीचार्ज से ही इंकार किया है। उन्होंने कहा कि जुलूस के लिए एक मार्ग तय किया गया था, लेकिन कुछ असामाजिक तत्व शामिल जुलूस में शामिल हो गए। उन्हें वहां से खदेड़ा गया। जांच की जाएगी और दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।