पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Dhar
  • The NAPA With A Budget Of 229 Crores Did Not Give 2 Crores To The Contractors, So The Road drain Could Not Be Built For A Year.

नपा कंगाल-विकास ठप:229 करोड़ के बजट वाली नपा ने ठेकेदारों के 2 करोड़ नहीं दिए, इसलिए सालभर से सड़क-नाली नहीं बन सकी

धार7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शहर के वार्ड क्र. पांच स्थित चाणक्यपुरी काॅलाेनी में नहीं बनी है सड़क। - Dainik Bhaskar
शहर के वार्ड क्र. पांच स्थित चाणक्यपुरी काॅलाेनी में नहीं बनी है सड़क।
  • एक साल पहले जिन कामों का भूमिपूजन किया, वे अब तक चालू नहीं हुए

शहर में एक साल से विकास कार्य ठप हाे गए हैं। 30 वार्डाें में सड़क-नाली निर्माण का भूमिपूजन हुए एक साल बीत गया, लेकिन काम अब तक शुरू नहीं हाे पाए है। इससे रहवासियाें काे परेशानी का सामना करना पड़ रहा। खुद पार्षद भी अब यह कहते हुए नजर आ रहे कि नपा में काेई सुनवाई नहीं हाे रही।

निर्माण कार्य ताे ठीक ड्रेनेज लाइन के चैंबर टूटने पर भी नपा महीनाें बाद तक सुधार नहीं करवा पा रही। नपा का सालाना अनुमानित बजट 2 अरब 28 कराेड़ 89 लाख का है। इसमें व्यय के लिए 2 अरब 28 कराेड़ 65 लाख रु. रखे गए हैं। जबकि संपत्तिकर, जलकर सहित अन्य कराें से भी करीब 25 कराेड़ की आय नपा काे हाेती है।

इसके बावजूद विकास कार्याें काे गति नहीं मिल पा रही है। पार्षद नपा में शिकायत लेकर जाते है ताे अधिकारी यहीं कह रहे कि नपा के पास राशि ही नहीं है। ठेकेदारों ने भी पुराना 2 कराेड़ से अधिक का भुगतान बकाया हाेने से नए निर्माण का काम बंद कर दिया है।
चार माह में चैंबर नहीं सुधार सके
हैप्पी विला काॅलाेनी के चाैराहा पर 8 जून काे एक क्रेन का पिछला पहिया चढ़ने से चैंबर क्षतिग्रस्त हाे गया था। चैंबर मेन टर्न पर हाेने से यहां से गुजरने वाले वाहन चालकाें व राहगीराें के लिए दुर्घटना का खतरा बढ़ गया है।

मुख्य बाजार के ट्रैफिक से बचने के लिए वाहन चालक सिल्वर हिल्स, त्रिमूर्ति चाैराहा, कलेक्टाेरेट जाने के लिए हैप्पी विला की काॅलाेनियों से निकलते है। इसके अलावा काॅलाेनी के अंदर रहने वाले लाेग भी इसी रास्ते का उपयाेग करते है। चैंबर धंसने से यहां बड़ा गड्डा हाे गया है। अब तक नपा ने चैंबर का सुधार नहीं कराया है।

पार्षद बाेले- नपा में शिकायत करो तो जवाब मिलता है- पैसा ही नहीं है, नपा ठेका निरस्त करेगी

वार्ड-2 की सड़क का भूमिपूजन हाे गया, काम शुरू तक नहीं किया
शहर के वार्ड क्र. दाे में भी सड़क, नाली के काम नहीं हाे पाए। पार्षद पुष्पा पति बालकृष्ण चावड़ा ने बताया एक साल पहले पानी वाली बावड़ी हनुमान मंदिर से ओम शांति आश्रम तक दाे-दाे लाख की तीन सड़क बनना थी। भूमिपूजन भी हाे गया लेकिन काम शुरू नहीं हाे पाया।

टीवीएस शाेरूम से राम भैय्या के मकान तक 10 लाख 84 हजार में राेड बनने की स्वीकृति भी हाे चुकी लेकिन काम नहीं हुअा। सड़क इतनी छलनी हाे गई कि वहां मरम्मत तक नहीं कराई जा रही। ठेकेदार से कहते है ताे वहीं रटा रटाया जवाब मिल रहा कि पुराना पैसा आएगा तभी नया काम शुरू करेंगे।

36 लाख के काम शुरू नहीं, खरीखोटी सुनाते हैं लोग

शहर के वार्ड क्र. 5 में एक साल पूर्व सड़क-नाली के काम स्वीकृत हाेकर भूमिपूजन भी हाे गया लेकिन काम शुरू नहीं हाे पाया। पार्षद एडवोकेट कमल दुबे ने बताया चाणक्यपुरी बी सेक्टर में 36 लाख की लागत से सड़क, ड्रेनेज लाइन सालभर पूर्व स्वीकृत हुई थी। जुलाई 2019 में लच्छू की दुकान से जिपं कार्यालय तक की सड़क भी नहीं बन पाई।

स्वीकृत कार्याें काे शुरू कराने के लिए नपा जाते है ताे वहां से कहते है कि अभी राशि ही नहीं है। ठेकेदार से कहते है ताे उनका जवाब रहता कि पुराना भुगतान ही नहीं मिला ताे नया काम कैसे शुरू करें। पार्षद हाेने के नाते रहवासियाें की खरी-खाेटी सुनना पड़ रही।

जहां सड़कें अब तक बनी ही नहीं, वहां भी अनदेखी

शहर के वार्ड क्र. 28 में कई जगह सड़कें अब तक बनी ही नहीं है। पार्षद पूजा हीरा माैर्य ने बताया 12 लाख से अधिक के निर्माण कार्य एक साल ठप है। इसमें सड़कें, नाली निर्माण, ड्रेनेज लाइन, पाेल, बाउंड्रीवाॅल सहित अन्य काम शामिल है। इनके नहीं हाेने से रहवासियाें के गुस्से का शिकार हाेना पड़ रहा। नपा में किसी प्रकार की काेई सुनवाई नहीं की जा रही।

नपा की वित्तीय स्थिति खराब है: प्रभारी सीएमओ
शासन से मिलने वाली राशि में कटाैता हाेने और काेराेना के चलते वित्तीय स्थिति खराब हुई है। इसी कारण ठेकेदाराें व सप्लायराें काे करीब 2 कराेड़ से अधिक का भुगतान नहीं करने से उनके द्वारा काम नहीं किया जा रहा है। पीआईसी की बैठक में यह मुद्दा रखते हुए इसमें चर्चा की जाएगी। जाे काम नहीं करना चाहता उसका ठेका निरस्त करने की कार्रवाई की जाएगी।
-विजय कुमार शर्मा, प्रभारी सीएमओ, धार नपा।

खबरें और भी हैं...