पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बलराम जयंती:महिलाओं ने व्रत रख हल का किया पूजन, खेत में उगे अन्न काे नहीं किया ग्रहण

धार13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शहर से लगे सूरजपुरा में हल का पूजन करती महिला। - Dainik Bhaskar
शहर से लगे सूरजपुरा में हल का पूजन करती महिला।

श्रीकृष्ण के बड़े भाई बलराम की जयंती शहर व ग्रामीण क्षेत्राें में रविवार काे मनाई। यह पर्व कृषि क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए काफी महत्वपूर्ण है। महिलाओं ने छठ माता का व्रत रख संतान के सुख, स्वास्थ्य और अच्छे जीवन की कामना के साथ हल का पूजन किया। इस व्रत में एक विशेष बात यह भी है कि महिलाएं पूरे दिन किसी जोते जाने वाले खेत में नहीं जाती हैं। सिर्फ माेरधान व फलाें काे ही खाती है।

ज्याेतिषाचार्याें के मुताबिक इसे हलछठ भी कहा जाता है। द्वापर युग में इसी तिथि पर भगवान विष्णु के प्रिय शेषनाग ने बलराम के रूप में अवतार लिया था। बलदाऊ हल और मूसल को शस्त्र के रूप में धारण करते थे, इस कारण उन्हें हलधर भी कहा जाता है। इस दिन व्रतधारी बिना हल चले उगे हुए अन्न और सब्जियां खाती है।

खबरें और भी हैं...