पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नाराजगी:नालछा के अस्पताल में मिली गंदगी, परिसर में मवेशियाें का डेरा, जगह-जगह कचरे का ढेर

नालछा9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नालछा. नालछा के अस्पताल परिसर में इस तरह से लगा था मवेशियाें का डेरा। अस्पताल के टायलेट में कर्मचारियाें काे गंदगी दिखाते हुए डाॅ. चाैधरी। - Dainik Bhaskar
नालछा. नालछा के अस्पताल परिसर में इस तरह से लगा था मवेशियाें का डेरा। अस्पताल के टायलेट में कर्मचारियाें काे गंदगी दिखाते हुए डाॅ. चाैधरी।
  • सीएमएचअाे डाॅ. जितेंद्र चाैधरी अचानक पहुंचे नालछा अस्पताल, लगाई फटकार
  • 3 दिन में व्यवस्था नहीं सुधरी तो करेंगे कार्रवाई

रविवार काे सीएमएचओ डॉ. जितेंद्र चौधरी अचानक आरोग्य केंद्र नालछा पहुंचे और पूरे अस्पताल का निरीक्षण किया। लेकिन उन्हें यहां का टॉयलेट गंदा मिला, परिसर में जगह-जगह कचरा पसरा पड़ा था, सामान भी अस्त व्यस्त था। यहां तक की अस्पताल के परिसर में मवेशियाें ने डेरा डाल रखा था। लापरवाही देखकर डाॅ. चाैधरी खासे नाराज हु़ए।

मौके पर तैनात कर्मचारियों को सख्त निर्देश दे दिए कि अपना कार्य ईमानदारी से करें। अस्पताल में 10 से ज्यादा सफाईकर्मी मौजूद होने के बाद भी स्वास्थ्य व्यवस्था के प्रति इतनी बड़ी लापरवाही की जा रही है। उन्होंने जमकर फटकार लगाने के बाद कहा कि तीन दिन में यदि यहां की व्यवस्था नहीं सुधरी ताे सख्त कार्रवाई की जाएगी।

रविवार को नालछा ब्लॉक के कई प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का आकस्मिक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान सीएमएचओ ने वैक्सीनेशन की गति को बढ़ाने की बात कही। लापरवाही बरतने अधिकारी कर्मचारियों को सख्त हिदायत दी कि लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

पिछले दिनों ग्राम बगड़ी में एएनएम द्वारा गर्भवती महिला से पैसे की डिमांड की गई थी। सीएमएचओ डॉक्टर जितेन चौधरी ने नालछा ब्लॉक के ग्राम तलवाड़ा, मांडू और नालछा के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का निरीक्षण किया और व्यवस्थाएं देखी। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों से स्वास्थ्य केंद्र में उपलब्ध आवश्यक संसाधनों, दवाइयों के स्टॉक समेत अन्य जरूरी संसाधनों की उपलब्धता के बारे में विस्तृत जानकारी ली।

डाॅ. चाैधरी ने अस्पताल भवन का मुआयना किया और प्रसूति वार्ड सहित अन्य कमरे की दीवारों पर सीपेज देखकर नाराजगी जाहिर की। करीब एक घंटा रुककर उन्होंने मुख्य द्वार से लेकर अस्पताल की ओपीडी, सर्जिकल वार्ड, जच्चा-बच्चा वार्ड के साथ दवाई कक्ष और तैनात कर्मचारियों की जानकारी ली। उपस्थिति रजिस्टर देखा कहा कि 3 दिन बाद फिर निरीक्षण करने पहुंच जाऊंगा।

खबरें और भी हैं...