पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शिक्षा का अधिकार:एक साल बाद अब बच्चों को मिलेगा स्कूलों में प्रवेश

झाबुआएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले की 205 स्कूलों में 1668 सीटें हैं रिक्त, आवेदन की अंतिम तारीख 30 जून

शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत गैर अनुदान मान्यता प्राप्त निजी स्कूलों में कमजोर व वंचित वर्ग के बच्चों के नि:शुल्क प्रवेश के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। कोरोना के कारण पिछले साल प्रवेश नहीं हो पाए थे। आवेदन की अंतिम तारीख 30 जून निर्धारित की गई है। प्रवेश के लिए कियोस्क सेंटर से ऑनलाइन आवेदन करना होगा। पिछले साल कोविड के कारण एडमिशन नहीं हो पाए थे इसलिए वर्ष सत्र 2020-21 व 2021-22 के लिए आवेदन किया जा सकता है। क्षेत्र के संकुल केंद्रों पर आवेदन व मूल दस्तावेजों का सत्यापन होगा। सत्यापन में पात्र मिले आवेदकों काे ऑनलाइन लॉटरी से 6 जुलाई को सीटें आवंटित की जाएंगी।

इसमें अजा, अजजा, वनभूमि के पट्‌टाधारी परिवार, विमुक्त जाति, निशक्त व एचआईवी ग्रस्त के साथ गरीबी रेखा के नीचे रहने वाले परिवार के बच्चे आवेदन कर सकेंगे। कक्षा नर्सरी, केजी 1 व केजी 2 में प्रवेश के लिए बच्चे की उम्र 3 से 5 और कक्षा पहली में प्रवेश के लिए न्यूनतम आयु 5 से 7 साल होना जरूरी है।

आरटीई के तहत जिले की 205 स्कूलों में करीब 1668 सीट रिक्त है। जहां बच्चों को नर्सरी, केजी1, केजी2 व पहली कक्षा में प्रवेश दिया जाएगा। स्कूल शिक्षा विभाग के अनुसार पिछले सत्र में पात्र रहे विद्यार्थी और कोरोना काल में अनाथ हुए बच्चों को ऑनलाइन लॉटरी में प्राथमिकता के साथ निजी स्कूलों में निःशुल्क प्रवेश दिया जाएगा। कोरोना के चलते पिछले साल कमजोर व वंचित वर्ग के बच्चों को निजी स्कूलों में प्रवेश नहीं मिल सका था। इसे देखते हुए पिछले साल के पात्र बच्चों की आयु की गणना 16 जून 2020 की स्थिति से की जाएगी। साथ ही बच्चे को आवंटित कक्षा नोशनल होगी। बच्चा उसके प्रवेश की अगली कक्षा में पढ़ेगा।

खबरें और भी हैं...