एक और काेरोना पॉजिटिव मिला / पूर्व में संक्रमित मिले एंबुलेंसकर्मी का रूममेट, 13 मई से था होम क्वारेंटाइन

X

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 06:40 AM IST

झाबुआ. शहर में शुक्रवार को एक और कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई। गोपाल कॉलोनी में रहने वाले युवक में संक्रमण निकला है। ये युवक 15 मई को पॉजिटिव मिले एंबुलेंस के ईएमटी (इमरजेंसी मेडिकल टेक्नीशियन) का रूममेट है। वो 13 मई से ही होम क्वारेंटाइन है। पहले मिले 11 में से 10 केस की तरह इस युवक में भी संक्रमण के लक्षण दिखाई नहीं दे रहे हैं। इसलिए बाड़कुआं में बनाए गए कोविड केयर सेंटर में भर्ती किया गया। यहां पहले से भर्ती 9 लोगों में से 5 के रिपीट सैंपल शुक्रवार को भेजे गए। 

बिना लक्षण के मरीजों के सैंपल 7 दिन में भेजे जाते हैं। गुरुवार को इन 5 मरीजों के 7 दिन पूरे हो गए। रिपोर्ट निगेटिव आती है, तो उन्हें यहां से क्वारेंटाइन सेंटर भेज दिया जाएगा। 14 दिन पूरे होने पर घर जाने दिया जाएगा। जिले में अब तक 12 मरीज आ चुके हैं। सबसे पहले संक्रमित मिली महिला ठीक होकर घर जा चुकी है। एक मरीज की मौत हो चुकी है और शुक्रवार का केस मिलाकर 10 कोविड केयर सेंटर में भर्ती हैं। 

चैन बनी, लेकिन टूटने की कगार पर
शहर में कोरोना की चैन के 11 लोग शिकार हुए। आमतौर पर दूसरी जगहों पर जिस तरह से चैन तेजी से फैली, यहां ऐसा नहीं हुआ। चौथी खेप में भेजे गए सैंपलों में से सिर्फ 1 निगेटिव आने से बड़ी राहत मिली है। मतलब 17 तारीख को मिले 4 पॉजिटिव के क्लोज कांटेक्ट में सिर्फ एक केस निकला, वो भी लगभग 10 दिन से होम क्वारेंटाइन है। ये छतरी चौक पर एक स्टोर में काम करता है। 

ऐसे समझें क्यों खतरा कम हो रहा...

  • पहला केस 5 मई को सामने आया। पेटलावद के पास मोहनपुरा की महिला राजस्थान से लौटी थी। उसे 7 दिन के इलाज के बाद अस्पताल से क्वारेंटाइन सेंटर भेजा गया और गुरुवार को घर भेज दिया। 
  • दूसरा केस टीकाकरण विभाग के ड्राइवर का 11 मई को पॉजिटिव आया। उपचार के दौरान 18 तारीख को उनकी मौत हाे चुकी है। वो 6 मई को वैक्सीन लेने गाड़ी लेकर इंदौर गए थे। 
  • 13 मई को मारुति नगर निवासी टीकाकरण विभाग के ड्रायवर के परिवार के 4 और उनकी बहू के कियोस्क सेंटर पर काम करने वाली एक कर्मचारी की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इनमें एक एंबुलेंस ड्राइवर है। ये सब पहले से क्वारेंटाइन थे। 
  • 15 मई को एंबुलेंस ड्राइवर के साथ काम करने वाले दो ईएमटी पॉजिटिव मिले। इनके अलावा कियोस्क सेंटर की कर्मचारी के परिवार की दो बच्चियों में संक्रमण निकला। ये भी पहले से क्वारेंटाइन थे। 
  • इसके बाद दोनों एंबुलेंस कर्मचारी के संपर्क वाले 18 सैंपल भेजे गए थे। इनमें से 17 गुरुवार को निगेटिव आ गए। शुक्रवार को एक पॉजिटिव आया। पॉजिटिव मरीज के संपर्क वाले 3 लोगों के सैंपल थे, जिस दुकान पर वो काम करता था, उसका संचालक निगेटिव आया। 

युवक के कांटेक्ट में पॉजिटिव नहीं निकलते हैं तो ये वाली चैन ब्रेक हो जाएगी
कोरोना मरीजों की रिपोर्ट आने के पहले ही वो ज्यादा लोगों के संपर्क में नहीं रहे। क्लोज कांटेक्ट वालों को समय रहते क्वारेंटाइन किया गया। ऐसे में संक्रमण की चैन इतनी तेजी से नहीं फैली। अगर इस युवक के कांटेक्ट में पॉजिटिव नहीं निकलते हैं तो ये वाली चैन ब्रेक हो जाएगी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना