पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सेवा पुरस्कार से सम्मान:डॉ. चैतन्यप्रज्ञा को अमेरिका के मियामी में मिला सम्मान

झाबुआ25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

आचार्य महाश्रमणजी की शिष्या समणी डॉ. चैतन्यप्रज्ञाजी को अमेरिका के मियामी में विशेष सम्मान 29 मई को दिया गया। वो फिलहाल वहां विराजित हैं। पीएचडी डॉ. चैतन्यप्रज्ञाजी जैन विश्व भारती लाडनू के सहयोगी कार्यक्रम के तहत फ्लोरिडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी मियामी में सेवाएं दे रही हैं।

पिछले दिनों विज्ञान व जैन दर्शन पर दूसरी काॅन्फ्रेंस हुई। 27 देशों के कई लोग जुड़े थे। जैन अध्ययन व अनुसंधान में उनके कार्य को देखते हुए फ्लोरिडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी ने उन्हें सेवा पुरस्कार से सम्मानित किया है।

आपको बता दें, डॉ. चैतन्यप्रज्ञा मूल रूप से झाबुआ की हैं। 1985 में 21 साल की उम्र में उन्होंने जैन दीक्षा ले ली थी। सांसारिक नाम चंदाबेन था। पिता मांगीलाल चौधरी व मां शांताबेन तब चंद्रशेखर आजाद मार्ग पर निवास करते थे।

खबरें और भी हैं...