पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

महाअभियान के 6 दिन में 70548 डोज लगे:चार दिन में 9898 को ही लग सकी वैक्सीन

झाबुआ20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बुनियादी स्कूल केंद्र पर दोपहर में पहुंचे लोगों को नहीं मिली वैक्सीन। - Dainik Bhaskar
बुनियादी स्कूल केंद्र पर दोपहर में पहुंचे लोगों को नहीं मिली वैक्सीन।
  • महाअभियान खत्म हुआ तो वैक्सीन भी कम पड़ गई, दोपहर तक शहर के सभी सेंटर खाली हुए, लोगों को लौटना पड़ा, शुक्रवार के लिए 10 हजार डोज पहुंचे

वैक्सीनेशन महाअभियान 21 जून से शुरू किया गया। इस दौरान जिले को पर्याप्त संख्या में वैक्सीन के डोज उपलब्ध कराए गए। 21 जून से 1 जुलाई तक अभियान के तहत 6 दिन टीके लगाए गए। इन 6 दिनों में 70548 लोगों को वैक्सीन लगाई गई। लेकिन इसके बाद 4 दिन वैक्सीनेशन के सत्र थे। इन चार दिनों में सिर्फ 9898 डोज ही लगाए गए।

स्थिति ये रही कि 5 जुलाई को सिर्फ दूसरा डोज ही लगा पाए। ये सब हो रहा है वैक्सीन की कमी के कारण। बुधवार को भी यही हाल रहे। महज 4551 डोज उपलब्ध थे। शहर सहित गांवों के केंद्रों में भी पूरा दिन टीकाकरण नहीं हो सका। जिले में अब तक 1 लाख 60 हजार से ज्यादा लोगों को पहला डोज लग चुका है। दूसरा डोज तकरीबन 30 हजार ने लगवाया है। महाअभियान के बाद 3 और 4 जुलाई को सबसे कम टीके लगे। 3 तारीख को 1611 और 4 तारीख को 823 डोज लगाए गए। इनमें से भी पहला डोज सिर्फ 400 लोगाें को लगा।

इधर, तसल्ली की खबर ये आई कि सरकार ने दो दिनों के लिए पर्याप्त संख्या में वैक्सीन का आवंटन जारी किया है। शुक्रवार के लिए 10 हजार डोज गुरुवार रात को झाबुआ पहुंच गए। शनिवार के लिए 20 हजार डोज और भेजे जाएंगे। इसके साथ ही केंद्रों की संख्या भी बढ़ाई जा रही है।

पहले सुस्ती, फिर चुस्ती, अब पुराने हाल

16 जनवरी से वैक्सीनेशन शुरू हुआ। तब से लेकर 20 जून तक 99513 लोगाें को पहला और 19357 को दूसरा डोज लगाया जा सका।

21 जून से वैक्सीनेशन के काम ने गति पकड़ी। इसके बाद 6 दिन चले वैक्सीनेशन ड्राइव में 1 जुलाई तक 70548 डोज लगाए गए। अब कुल वैक्सीनेशन में पहला डोज 158636 को और दूसरा डोज 22291 लोगों को लगाया जा चुका था।

5 जुलाई की शाम तक पहला डोज 158883 लोगों को और दूसरा डाेज 27238 लोगों को लगाया गया। इसके बाद बुधवार को वैक्सीनेशन हुआ। इस दिन 4440 डोज लगाए गए।

शहर में बुधवार को ऐसे रहे वैक्सीनेशन के हाल
बुनियादी स्कूल: यहां कोवैक्सीन के 50 और कोविशील्ड के 70 डोज ही मिले थे। सुबह से लोग पहुंचने लगे। साढ़े 12 बजे वैक्सीन खत्म हो गई। तब तक 25 से ज्यादा लोग इंतजार में थे। इन लोगों ने काफी देर इंतजार किया, लेकिन वैक्सीन उपलब्ध नहीं हुई।
डीआरपी लाइन: यहां 90 डोज उपलब्ध कराए गए थे। सवा 11 बजे डोज खत्म हो गए। लगातार लोग वैक्सीन लगवाने पहुंच रहे थे और खाली हाथ लौटते रहे। कुछ ने स्टाफ से बहस भी की। जवाब मिला, पहले आएं, पहले पाएं।
टूरिस्ट मोटल: यहां ड्राइव इन वैक्सीनेशन चल रहा है। 30 डोज उपलब्ध कराए गए थे। दोपहर 1.55 पर सभी डोज खत्म हो गए। बाद में कुछ लोग आए भी। उन्हें समझाकर वापस भेज दिया गया।

खबरें और भी हैं...