पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

काम की खबर:30 सितंबर तक जमा कर सकते हैं व्यक्तिगत आयकर रिटर्न

झाबुआ20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना संक्रमण की वजह से टैक्स पेयर को आयकर विभाग ने दी दो महीने की राहत

केंद्र सरकार की ओर से कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से जारी लाॅकडाउन में टैक्स पेयर्स को राहत देते हुए आयकर रिटर्न भरने की समय सीमा में दो माह की बढ़ोतरी कर दी थी। वर्ष 2020-21 की व्यक्तिगत आयकर रिटर्न 30 सितंबर तक जमा करवा सकते हैं। पहले यह डेडलाइन 31 जुलाई थी।

कर सलाहकार संजय व्यास ने बताया कि यदि आपकी किसी एक वित्त वर्ष में कुल सालाना आय 2.50 लाख रुपए से ज्यादा है तो आपके लिए इनकम टैक्स रिटर्न भरना जरूरी है। नौकरी, कारोबार या पेशे से टैक्स छूट की सीमा से अधिक आमदनी होती है तो आपके लिए आयकर रिटर्न भरना आवश्यक है।

डिजिटल इंडिया के इस दौर में थोड़ी सी लापरवाही की वजह से आयकर विभाग का नोटिस मिल सकता है। किसी एक वित्त वर्ष में अगर आपकी कुल आमदनी सिर्फ कृषि और उससे जुड़े कार्य से होती है तो आपको आईटीआर भरने की जरूरत नहीं है।

रिटर्न के लिए ये जरूरी कागजात चाहिए

  • कर्मचारियों के लिए नियोक्ता से 16 ए फॉर्म, सभी बैंक की स्टेटमेंट या पास बुक
  • ट्रेडिंग एकाउंट्स, प्रॉफिट एंड लोस अकाउंट्स, ब्याज खाते की नकल, डेप्रिसिएशन चार्ट, कैपिटल अकाउंट्स, सेविंग अकाउंट की ब्याज, टीडीएस/टीसीएस की लिस्ट, बैलेंस शीट इत्यादि।
  • इनकम टैक्स में छूट के लिए कागजात जैसे की एलआईसी की रसीदें, म्युचुअल फंड, मेडिकल इंश्योरेंस की रसीदें, चंदे की रसीदें, स्कूल फीस की रसीदें, हाउसिंग लोन का सटिर्फिकेट इत्यादि।
  • वित्तीय वर्ष 2020-2021 की जीएसटी की कुल बिक्री (टैक्सेबल और फ्री मिलाकर)।
  • आपके जितने भी बैंक अकाउंट्स (सेविंग और करंट दोनों) जो चल रहें है सभी बैंक अकाउंट्स की डिटेल जैसे बैंक का नाम, अकाउंट नंबर, आईएफसी कोड।

कंपनियों के आईटीआर फाइल करने की तारीख 30 नवंबर तक
केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने भी कंपनियों के लिए आईटीआर फाइल करने की समय सीमा एक महीने बढ़ाकर 30 नवंबर कर दी है। इनकम टैक्स ऑडिट की आखिरी तारीख 31 अक्टूबर से बढ़ाकर 30 नवंबर की गई है। इनकम टैक्स कानून के अनुसार जिन व्यक्तियों के अकाउंट का ऑडिट करने की आवश्यकता नहीं है और जो आम तौर पर आईटीआर-1 या आईटीआर-4 का उपयोग करके अपना आयकर रिटर्न दाखिल करते हैं। टैक्स पेयर्स के लिए समय सीमा, जैसे कंपनियां या फर्म, जिनके खातों का ऑडिट होना आवश्यक है।

खबरें और भी हैं...