पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना कर्फ्यू:17 मई सुबह 6 बजे तक बाजार व आवागमन पूरी तरह रहेगा बंद, केवल जरूरी सेवाएं चालू रहेंगी

आलीराजपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए कलेक्टर ने जारी किए प्रतिबंधात्मक आदेश

जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ रही है। दो आइसोलेशन वार्डों के बेड भी फुल हो रहे हैं। वहीं रोजाना 25 से 30 पॉजिटिव केस सामने आ रहे हैं। गंभीर मरीजों को रेफर किया जा रहा है। संक्रमितों का आंकड़ा 300 के पार पहुंच चुका है।

बावजूद लोग नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। लोग बगैर मास्क के घूमते नजर आ रहे हैं। दुकानों पर सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं हो रहा है। प्रशासन की टीम लोगों को लगातार समझाइश दे रही थी। यहां तक कि चालान, बनाने, दुकानें सील करने की कार्रवाई की जा रही थी। लेकिन लोग मानने को तैयार नहीं थे। ऐसी लापरवाहियों को देखते हुए अब जिले में 17 मई सुबह 6 बजे तक कोरोना कर्फ्यू बढ़ा दिया है। कलेक्टर सुरभि गुप्ता ने कोरोना संक्रमण के मद्देनजर आलीराजपुर जिले की संपूर्ण राजस्व सीमा में दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किए हैं। आदेश के तहत सभी बाजार बंद रहेंगे और अति आवश्यक कार्यों को छोड़कर आवागमन पूर्ण रूप से प्रतिबंध रहेगा।

आदेश के अनुसार कर्फ्यू में इन्हें दी गई है छूट
आदेश के तहत शासकीय या निजी अस्पताल, संस्था एवं कार्यरत अधिकारी-कर्मचारियों अन्य अमला, पुलिस बल, कार्यपालिक मजिस्‍ट्रेट, विद्युत मंडल, इंटरनेट, टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर, किसी भी तरह की एम्बुलेंस व फायर ब्रिगेड सेवाएं, लोक शांति या शासकीय कार्य करने के लिए नियुक्त अधिकारी-कर्मचारियों को छूट रहेगी। आवश्यक वस्तु की घर पहुंच सेवा, होम डिलेवरी में लगे कर्मचारियों, रसोई गैस सिलेंडर वितरण व्यवस्था में लगे कर्मी, इलेक्ट्राॅनिक, प्रिंट मिडिया, दवा दुकानें व अस्पताल, सभी प्रकार के ईंधन, परिवहन के साधन व भंडारण डीपो, टीकाकरण सत्रों का आयोजन शासन निर्देशानुसार जारी रहेगा।

परीक्षा केंद्र आने-जाने वाले परिक्षार्थी, परीक्षा आयोजकों से जुड़े कर्मचारी व अधिकारी। मालवाहक वाहनों का आवागमन, राशन दुकानें एवं उपार्जन केंद्रों पर खरीदी व बैंकों के एटीएम चालू रहेंगे। वहीं उक्त आदेश का उल्लंघन करने पर भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 188 एवं राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा 51 से 60 के अंतर्गत दंडनीय अपराध होगा।

खबरें और भी हैं...