पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

फैसला:6 साल बाद मां को मिली बेटियों की कस्टडी, पर वे पिता का घर छोड़ने को तैयार नहीं हुई

झाबुआ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मां के साथ बेटियों को भेजा तो वो इस तरह बिलखने लगी। - Dainik Bhaskar
मां के साथ बेटियों को भेजा तो वो इस तरह बिलखने लगी।
  • पुलिस ने जबरन भेजा तो रोने लगीं
  • एसडीएम कोर्ट ने नाबालिग बेटियों को लेकर मां के पक्ष में दिया फैसला, बच्चियों का रोना सुनकर सारे लोग बाहर आ गए

कसमा पिता गलाल बामनिया निवासी कालापान की 2010 में पाडलघाटी के रामसिंह से शादी हुई। उनकी दो बेटियां 9 साल की सरिता और 7 साल की परी है। 2014 में रामसिंह ने दूसरी शादी कर ली और कसमा को छाेड़ दिया। कसमा पिता के घर आ गई। दोनों नाबालिग बेटियां सुसराल में ही रह गई।

6 साल बाद दिसंबर में कसमा ने बेटियों की कस्टडी के लिए एसडीएम कोर्ट में आवेदन लगाया। बुधवार को एसडीएम ने बच्चियों को मां के साथ भेजने के आदेश दे दिए। लेकिन जब पुलिस उन्हें मां के साथ भेजने लगी तो दोनों बेटियां चीख-चीखकर रोने लगी। उन्हें जबरन खींचकर भेजा गया। आवाज सुनकर कलेक्ट्रेट के लोग बाहर आ गए। बाद में बाहर बिठाकर पुलिस और परिवार वालों ने दोनों बेटियों को समझाया।

दूसरी शादी के बाद ससुराल वाले प्रताड़ित करते थे
कसमा ने बताया, नई पत्नी लाने के बाद पति और ससुराल वाले प्रताड़ित करते थे। उसने भरण-पोषण का केस भी लगाया, इसमें भरण-पोषण देने का आदेश होने के बावजूद पति पैसा नहीं देता। दूसरी पत्नी से उसे एक बेटा है। ऐसे में बेटियों को पाने के लिए केस लगाया था। एसडीएम एमएल मालवीय ने बताया, बेटियां नाबालिग हैं और पिता ने दूसरी पत्नी रख रखी है। ऐसे में उचित कस्टोडियन मां ही है। इसलिए मां को सौंप दिया गया। बच्चियां शुरू से पिता के घर रह रही हैं, इसलिए हो सकता है उन्हें दुख हो। पक्षकार फैसले पर अपील कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

    और पढ़ें