पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Jhabua
  • Munidvay's Mars Entry For Chaturmas; Munishree Rajatchandra Vijayji And Jitchandra Vijayji Were Received By Society And Committee Members

धर्मसभा:चातुर्मास के लिए मुनिद्वय का हुआ मंगल प्रवेश; मुनिश्री रजतचंद्र विजयजी और जितचंद्र विजयजी की समाजजन व समिति सदस्यों ने की अगवानी

झाबुआ8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रवचन श्रवण करने बड़ी संख्या में समाजजन पहुंचे। - Dainik Bhaskar
प्रवचन श्रवण करने बड़ी संख्या में समाजजन पहुंचे।

आचार्य श्री ऋषभचंद्र सूरीश्वरजी के दो आज्ञानुवर्ती शिष्य रजतचंद्र विजयजी और जितचंद्र विजयजी का बुधवार को शहर में चातुर्मास के लिए मंगल प्रवेश हुआ। नेहरू मार्ग स्थित कालिका माता से हुए प्रवेश के दौरान अगवानी करने समाजजन पहुंचे। मंदिर परिसर में बुधवार को सुबह 9 बजे चातुर्मास समिति के उत्तम जैन लोढ़ा, यशवंत भंडारी, मनोज मेहता, मुकेश रूनवाल, नरेंद्र पगारिया, सतीश कोठारी, राकेश मेहता, डाॅ. प्रदीप संघवी, संजय कांठी आदि ने मुनिद्वय की अगवानी की।

राजवाड़ा, लक्ष्मीबाई मार्ग होते हुए मुनिद्वय का आगमन बावन जिनालय पर हुआ। रास्ते में समाजजनों ने पट पर विराजमान आचार्य श्री ऋषभचंद्र सूरीश्वरजी के चित्र के समक्ष अक्षत-श्रीफल से गहुली की।

पोषध शाला भवन में कार्यक्रम आरंभ हुआ। गुरु वंदन की विधि श्रावक रत्न धर्मचंद मेहता ने संपन्न करवाई। चातुर्मास समिति के पदाधिकारियों ने लाभार्थियों का बहुमान किया। धर्मसभा में भाजपा जिलाध्यक्ष लक्ष्मणसिंह नायक, जिला महामंत्री सोमसिंह सोलंकी एवं कृष्णपालसिंह गंगाखेडी, अजय रामावत भी पहुंचे। चातुर्मास समिति के अध्यक्ष सुभाषचंद्र कोठारी ने बताया 23 जुलाई से प्रतिदिन सुबह 9.30 से 10.30 बजे तक पोषध शाला भवन में प्रवचन होंगे। धर्मसभा का संचालन मालवा जैन महासंघ के केंद्रीय प्रवक्ता यशवंत भंडारी ने किया। बीच-बीच में सुमधुर भजनों और गीतों की प्रस्तुति के साथ माहौल को धर्ममय मनीष खट्टाली (जावरा) ने बनाया।

चार महीने में अपनी आत्मा का कल्याण करें
धमर्सभा में मुनिश्री रजतचंद्र विजयजी ने कहा मानव जीवन अत्यंत ही दुर्लभता से ही मिलता है। इसे हमें व्यर्थ नहीं गवाना चाहिए। चातुर्मास के दिनों में पूरी तरह जप, तप और धर्म-आराधनाअाें में लीन होकर अपने आप को धर्ममय बनाना है। अपने आत्मा का कल्याण करना है।

खबरें और भी हैं...