जुलूस निकाला:भंडारी अधिवक्ता संघ झाबुआ के नए अध्यक्ष, 88 साल के वकील इंदौर से आए वोट डालने

झाबुआ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

झाबुआ कोर्ट अधिवक्ता संघ के चुनाव मंगलवार को खत्म हो गए। देर रात तक वोटों की गिनती चलती रही। दीपक भंडारी 97 वोट के साथ जीत दर्ज कराने में सफल हुए। उनके सामने खड़े हुए बद्री सोनी को 61 वोट मिले। उपाध्यक्ष पद पर नरेंद्रसिंह सोलंकी 92 वोट पाकर जीत गए। सामने खड़े हुए अर्चना राठौड़ को 84, मोहन गामड़ को 67 और सत्यम भट्‌ट को 72 वोट मिले। सचिव पद पर शरदचंद्र शुक्ला को 94 और स्वप्निल सक्सेना को 61 वोट मिले। विजेताओं का रात में स्वागत किया और एक जुलूस भी निकाला गया।

वोटिंग काे लेकर कोर्ट में दिनभर गहमागहमी रही। जो सदस्य बाहर थे, उन्हें गाड़ियों से बुलवाया गया। इंदौर गए हुए 88 साल के वरिष्ठ एडवोकेट बाबूलाल संघवी भी अपनी कार से वोट देने पहुंचे। चलने में असमर्थ होने के कारण कार से एक कुर्सी पर बिठाकर साथी वकील वोटिंग हॉल तक लेकर आए। चुनाव में सहसचिव पद पर सचिन सिसौदिया को 100, अखिलेश संघवी को 69, कमलेश किराड़िया को 81 वोट मिले। कोषाध्यक्ष पद पर कृष्णलाल शाह को 82 और मुकेश बैरागी को 72 वोट और ग्रंथपाल के लिए प्रतिभा सोनी को 93 व अंजू राठौर को 61 वोट मिले।

सदस्यों में संघवी को 119 वोट मिले : कार्यकारिणी के लिए 11 सदस्य चुने गए। महिला सदस्य के तौर पर जया झाला पहले निर्विरोध चुनी जा चुकी थी। 10 पद के लिए 19 वकील खड़े हुए। हितेश संघवी को सबसे ज्यादा 119 वोट मिले। अशोक कुमार रूनवाल को 91, देवेंद्र प्रसाद अग्निहोत्री को 112, नितिन मोदी को 92, प्रतीक मेहता को 92, प्रांजल नीमा को 109, राकेश जोशी को 96, राजेश पंड्या को 110, सत्यप्रकाश पांचाल को 103, सूबेसिंह बारिया 75 और हितेश संघवी को 119 वोट मिले और ये सदस्य बने। अजहर अली को 65, अमलतास तैमूर शेख को 31, ऋषभ कुमार जैन को 56, गोपाल गोयल को 56, जयेश झामर को 45, दीपेंद्र जैन को 53, रमेश सोलंकी को 43, शैतान वसुनिया को 29 वोट मिले।

खबरें और भी हैं...