पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

समीक्षा:चार जनपद सीईओ को ईज ऑफ लिविंग सर्वे में काम नहीं करने पर नोटिस, मांगा जवाब

झाबुआ16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कलेक्टर सोमेश मिश्रा ने थांदला, पेटलावद, झाबुआ और मेघनगर जनपद पंचायत के सीईओ को कारण बताओ नोटिस जारी किए हैं। ये नोटिस ईज ऑफ लिविंग में काम नहीं करने काे लेकर जारी किए गए। 28 जून को ईज ऑफ लिविंग से संबंधित कार्यों की समीक्षा की गई थी। सर्वे के बाद ऑनलाइन इंट्री की गई।

इसमें थांदला में 49.11 प्रतिशत, पेटलावद में 40.64 प्रतिशत, झाबुआ में 58.59 एवं मेघनगर में 62.52 प्रतिशत उपलब्धि रही। ये काफी कम है। इस पर अफसरों ने असंतोष जाहिर किया। जनपदों के सीईओ की कार्य में लापरवाही मानते हुए नोटिस जारी किए हैं। चारों अफसरों ने 3 दिन में जवाब मांगा है।

36 बिंदुओं पर सर्वे करना है- ईज ऑफ लिविंग एक सर्वे है। इसमें 2011 की आर्थिक व सामाजिक जनगणना के मुकाबले ग्रामीणों के जीवन में आए बदलाव का सर्वे कर ऐप के माध्यम से डाटा अपलोड करना है। 36 बिंदु शामिल किए हैं। ग्रामीण के पास पासबुक, शौचालय, राशन कार्ड, एलपीजी गैस कनेक्शन या अन्य सरकारी योजनाओं की सुविधा उपलब्ध है या नहीं ईज ऑफ लीविंग में ये बताना है।

खबरें और भी हैं...