जल्दी आई गर्मी:पिछले साल 7 मार्च को 28.8 डिग्री था तापमान, इस बार 8.4 डिग्री बढ़ गया

झाबुआ9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • फरवरी में ही बढ़ने लगा था तापमान, कारण बारिश कम समय के लिए हुई
  • गर्मी के तीखे तेवर दिखने से माना जा रहा है कि इस साल अधिकतम तापमान नए रिकाॅर्ड बनाएगा

इस साल गर्मी जल्दी आ गई। जिले के औसत अधिकतम तापमान से महज 5 से 6 डिग्री कम तापमान रहा गया है। ये मार्च की शुरुआत में ही है। पिछले साल 7 मार्च को अधिकतम तापमान 28.8 डिग्री सेल्सियस था। इस बार 7 मार्च का तापमान 37.2 डिग्री सेल्सियस रहा। यानि पिछले साल से 8.4 डिग्री ज्यादा रहा 7 मार्च का दिन।

जल्दी गर्मी के तेवर दिखने के कारण ये भी माना जा रहा है कि इस बार अधिकतम तापमान नए रिकार्ड पर चला जाए। हालांकि ये कहना अभी जल्दबाजी होगी। आने वाले समय में हवाओं की दिशा पर ये सब निर्भर करेगा। जल्दी गर्मी का मौसम शुरू होने के पीछे कारण बारिश के कम दिन रहने और सर्दियों में लंबे समय तक उत्तर भारत से हवाओं का नहीं आना है। अभी के पूर्वानुमान के हिसाब से 10 मार्च तक तापमान में 1 डिग्री की और बढ़ोतरी हो सकती है।

इस दौरान हवाओं की गति भी साढ़े 7 से साढ़े 12 किलोमीटर प्रति घंटा रहेगी। मौसम विज्ञानी डॉ. आरके त्रिपाठी के मुताबिक अभी उत्तर-पूर्व से पश्चिम की हवाएं चल रही हैं। इससे गर्मी बनी रहेगी। आने वाले कुछ दिनों में न बारिश के आसार हैं, न ठंडक आने के। गर्मियों का मौसम है, और आगे भी बना रहेगा। किसानों को चाहिए कि पक चुकी फसल काे काटकर उचित तापमान पर संग्रहित करें। ज्यादा गर्मी से खराब होने जैसी फसलों की सुरक्षा करें। फल और सब्जियों की प्रजाति का भी ज्यादा ध्यान रखना होगा। अभी हवाएं तेज चल रही हैं, लेकिन लू चलने जैसा वातावरण नहीं है।

पिछले साल ये हुआ था
मार्च के शुरुआती सप्ताह में उत्तर की दिशा से ठंडी हवाएं आई थी। उत्तर में बर्फबारी के कारण वहां मौसम ठंडा था। इसका असर यहां भी पड़ा और तापमान 30 डिग्री सेल्सियस से भी कम रहा। हालांकि मार्च की शुरुआत से लेकर सप्ताह खत्म होने तक गर्मी इस साल के मुकाबले कम ही थी।

खबरें और भी हैं...