नपा परिसर में होगा 11 फीट के रावण का दहन:2019 से राणापुर रोड पर होता आया है रावण दहन, कोरोना के कारण इस बार भी फीका रहेगा

झाबुआ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 11 फीट का रावण का पुतला थांदला के कलाकार बना रहे

कोरोना संक्रमण कम होने के बाद भी दशहरा फीका रहने के आसार हैं। कोविड नियमों का पालन कराने की जिम्मेदारी भी समितियाें पर डालने से हर कोई डर रहा है। एसडीएम कार्यालय में अब तक किसी ने आयोजन के लिए आवेदन नहीं दिया है।

जिला प्रशासन द्वारा कोरोना को देखते हुए दशहरा पर्व की सशर्त अनुमति दी जा रही है। इसके बाद भी निरंतर दूसरे साल भी शहर में सार्वजनिक दशहरा पर्व पर संशय बना हुआ है। अब तक सार्वजनिक आयोजन के लिए एक भी संस्था व संगठन आगे नहीं आया है। इधर.. शहर में नगर पालिका द्वारा रावण दहन का कार्यक्रम कोरोना गाईडलाइन को देखते हुए नगर पालिका परिसर में ही प्रतिकात्मक रुप से किया जाएगा। नगर पालिका परिसर में 11 फीट का रावण कुछ लोगों की मौजूदगी में जलाया जाएगा।

रावण बनाने का कार्य थांदला के कलाकार कर रहे है। गौरतलब है कि हर साल रावण दहन कार्यक्रम जिला स्तर पर बड़ी संख्या में लोगों की उपस्थिति में होता आया है। यहां शानदार आतिशबाजी के बीच रावण का दहन किया जाता था। लेकिन दो साल से काेरोना के कारण आयोजन नहीं हो पा रहे है। इस साल भी यह पर्व फिका रहेगा। वहीं गली मौहल्लों में बच्चे छोटे-छोटे रावण के पुतले तैयार कर आयोजन की तैयारियों में जुटे दिखाई दे रहे हैं।

पर्व को लेकर प्रशासन ने ये गाइडलाइन जारी की

  • रात 10 बजे के बाद डीजे पर रहेगा प्रतिबंध, सार्वजनिक कार्यक्रमों की अनुमति नहीं।
  • चल समारोह, सांस्कृतिक व धार्मिक आयोजन व जनसमूह एकत्र पर प्रतिबंध रहेगा।
  • रावण दहन के पूर्व परम्परागत श्रीराम के चल समारोह की प्रतीकात्मक रूप से अनुमति दी जाएगी।
  • धार्मिक व पूजा स्थल की क्षमता के 50 प्रतिशत की सीमा तक श्रद्धालु व अनुयायी उपस्थित रह सकेंगे।
  • रामलीला तथा रावण दहन के कार्यक्रम खुले मैदान में फेस मास्क तथा सोशल डिस्टेंसिंग की शर्त पर आयोजन समिति द्वारा कलेक्टर की पूर्वानुमति प्राप्त कर आयोजित होंगे।
  • रामलीला का आयोजन मैदान या हाॅल की क्षमता की 50 प्रतिशत सीमा तक दर्शक शामिल हो सकेंगे।
  • रावण दहन के वृहद आयोजन, जिनका स्वरूप मेले समान होता है उनकी अनुमति नहीं होगी।
खबरें और भी हैं...