पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ज्‍यादा फीस नहीं वसूल पाएंंगे:स्कूली बच्चों की फीस ऑनलाइन जमा होगी

झाबुआ7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

प्रदेश में फीस एक्ट में संशोधन किया है। अब हर स्कूल इसके दायरे में आएंगे और बच्चों की फीस अब ऑनलाइन ही जमा होगी। जबकि अभी तक केवल सीबीएसई व बड़े स्कूलों में इस तरह की सुविधा थी और वहां बच्चों की फीस ऑनलाइन ही जमा होती थी लेकिन अब छोटे स्कूल भी इसके दायरे में आएंगे और इन स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों की फीस अब ऑनलाइन ही जमा होगी।

अभी तक ज्यादातर स्कूलों में फीस ऑफलाइन जमा होती है। अभिभावक स्कूल पहुंचते हैं और वहां पहुंचकर फीस जमा कराते हैं लेकिन अब फीस एक्ट में संशाेधन के बाद छोटे और बड़े सभी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों की फीस ऑनलाइन ही जमा होगी।

बैंकों या नेट बैंकिंग के जरिए स्कूलों में फीस जमा होगी। ऐसे में अभिभावकों को सुविधा होगी और वे ऑनलाइन ही आसानी से फीस जमा करा सकेंगे।

निर्धारित से ज्यादा फीस नहीं ले सकेंगे स्कूल संचालक

  • अभी फीस जमा कराने के लिए स्कूल पहुंचना पड़ता है। इससे समय लगता है। अब ऑनलाइन फीस जमा हो जाएगी। इससे समय की बचत होगी।
  • ऑनलाइन फीस जमा होने से अभिभावकों को ऑनलाइन ही रसीद भी मिल जाएगी। अभी तक ऑफलाइन ही रसीद मिलती थी।
  • चूंकि ऑनलाइन रहेगा। इससे संचालक भी तय फीस ही ले सकेंगे।
  • सारा रिकॉर्ड ऑनलाइन होने से ज्यादा फीस वसूलने की शिकायतों में भी कमी आएगी।

हमारे यहां क्यों नहीं :

मप्र प्रांतीय अशासकीय शिक्षण संस्था संघ के पदाधिकारियों ने बताया कि अन्य प्रदेशों में 30 हजार से ऊपर जिन स्कूलों की फीस है उन्हें ऑनलाइन फीस भरना जरूरी किया गया है। इससे छोटे स्कूलों को परेशानी होगी क्योंकि छोटे स्कूलों में पढ़ने वाले कई बच्चे मध्यम वर्ग और गरीब तबके के होते हैं। एक्ट से तो स्कूलों को दिक्कत आएगी। इससे छोटे स्कूलों को छूट देना चाहिए।

खबरें और भी हैं...