हादसाें काे राेकने की कवायद:स्पीड 157 किमी प्रतिघंटा, घातक है ये रफ्तार; नियमों का पालन करने में ही समझदारी

झाबुआ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इंटरसेप्टर वाहन से बने 6 चालान

हादसों पर लगाम लगाने के लिए अब ओवर स्पीड के खिलाफ चालानी कार्रवाई शुरू हो गई है। एमपीआरडीसी ने इंदौर-अहमदाबाद हाईवे पर मोड़ व अन्य जगह स्पीड लिमिट तय कर बोर्ड भी लगा रखे हैं। इसके बाद भी यहां से गुजरने वाले वाहन 150 से अधिक की रफ्तार पर दौड़ रहे हैं।

जिले को पिछले दिनों ओवरस्पीडिंग पर कार्रवाई करने के लिए इंटरसेप्टर कार मिली है, जिससे की यातायात विभाग ने भी कार्रवाई शुरु कर दी है। हाइवे पर तेज गति से वाहन दौड़ाने वाले 6 वाहन चालकों के चालान अब तक बनाए गए हैं। इन 6 वाहनों में एक 157 की स्पीड से तो कुछ वाहन 120 और 130 की रफ्तार पर दौड़ते भी मिले। यातायात प्रभारी वीरेंद्र मुझाल्दे के अनुसार हाईवे पर वाहन चालक काफी तेज गति से वाहन चलाते हैं। रफ्तार की हादसों का कारण बनती है।

उन्होंने बताया ऐसे में हमारी टीम रफ्तार पर लगाम लगाने के लिए रोजाना कार्रवाई कर रही है। हाइवे के बाद शहर में कार्रवाई शुरू की जाएगी। इसके लिए पुलिस काे इंटरसेप्टर वाहन उपलब्ध कराया गया है जो 1 किमी दूर से वाहन की स्पीड पकड़ लेता है। इसमें लगे लेजर कैमरे से यह 300 मीटर दूर से आ रहे वाहन की नंबर प्लेट स्कैन कर पता लगा लेता है।

शहर व अन्य मार्ग पर स्पीड लिमिट जरूरी

यतायात पुलिस ने बायपास पर स्पीड लिमिट तय होने पर कार्रवाई शुरू की। इसके अलावा पुलिस अभी कहीं भी कार्रवाई नहीं कर सकती। शहर व अन्य प्रमुख मार्गों पर स्पीड लिमिट ही तय नहीं है। यह तय होने के बाद जब तक साइन बोर्ड नहीं लगेंगे, यातायात पुलिस चालानी कार्रवाई नहीं कर सकती। इस संबंध में प्रभारी वीरेंद्र मुझाल्दे ने कहा कि एमपीआरडीसी व शहर में स्पीड लिमिट बोर्ड के लिए नगरपालिका से चर्चा करेंगे। शहर में जल्द हाईप्रेशर हाॅर्न व ध्वनि प्रदूषण की जांच व कार्रवाई शुरू की जाएगी।

प्रेशर हाॅर्न की भी होगी जांच : टेस्टिंग के दौरान वाहन में ध्वनि प्रदूषण माप भी सामने आया। इसमें वाहन के आसपास के यातायात की आवाज का दबाव बताया। इसी मशीन से अब यातायात पुलिस जल्द शहर में हाईप्रेशर हाॅर्न व साइलेंसर से निकलने वाली आवाज की जांच करेगी। मानक से बड़े हाॅर्न व ध्वनि प्रदूषण मिलने पर लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इससे निश्चित ही ध्वनि प्रदूषण नियंत्रण में मदद भी मिलेगी।

खबरें और भी हैं...