पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Jhabua
  • The Father Of The Doctor Of Corona Ward Was On Ventilator For 15 Days, Yet Did Not Leave Duty, Saturday Night He Went Away Forever

गर्व है ऐसे योद्धा पर...:कोरोना वार्ड के डॉक्टर के पिता 15 दिन से वेंटिलेटर पर थे फिर भी ड्यूटी नहीं छोड़ी, शनिवार रात वाे हमेशा के लिए छाेड़ गए

झाबुआएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
Advertisement
Advertisement

रितेश त्रिवेदी, ये वो आयुष डाॅक्टर हैं, जिन्होंने अपनी ड्यूटी को सबसे ऊपर रखा। 22 जून से डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटर में इनकी ड्यूटी थी। इस बीच कैंसर पीड़ित पिता की तबीयत बहुत खराब हो गई और उन्हें उज्जैन के अस्पताल में वेंटिलेटर पर रखना पड़ा। रितेश पिता से मिलकर ड्यूटी पर लौट आए। उनके अफसरों ने कहा, अगर छुट्‌टी पर जाना चाहते हो तो चले जाओ, लेकिन रितेश एक दिन में ही वापस आ गए। बोले, यहां पहले ही कम लोग हैं। मैं नहीं रहूंगा तो मरीजों का ध्यान कौन रखेगा। शनिवार रात 2 बजे उज्जैन में उनके पिता का निधन हो गया। रितेश आखिरी समय में उनके साथ नहीं रह सके।  आपको बता दें, डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटर वो जगह है, जहां कोरोना संक्रमित मरीजों का उपचार किया जाता है। रितेश ने अपनी जान की परवाह भी नहीं की। लगातार कोरोना मरीजों के बीच ड्यूटी देते रहे। उनकी यहां ड्यूटी लगने के दौरान लगातार मरीज भी आते रहे। अभी भी 5 मरीज भर्ती हैं।  यहां दो आयुष डॉक्टरों की ड्यूटी है। एक दिन में यहां रहते हैं और दूसरे रात में। उनके अलावा अन्य स्टाफ है। इंचार्ज डॉक्टर एनेस्थेटिक डॉ. सावनसिंह चौहान हैं। पिता की मौत के बाद रितेश उज्जैन के लिए रवाना हुए। वो जिले के रायपुरिया के रहने वाले हैं। कोविड काल में उन्हें जिला अस्पताल में अस्थायी नियुक्ति दी गई है। 

20 दिन से भर्ती थे
डॉ. रितेश त्रिवेदी के पिता राजेंद्र कुमार त्रिवेदी (59) कैंसर से लंबे समय से पीड़ित हैं। एक महीने से तबीयत ज्यादा खराब है। यहां स्थिति नहीं सुधरी तो परिवार वाले उज्जैन ले गए। यहां भी सेहत में सुधार नहीं हुआ। 15 दिन पहले उन्हें वेंटिलेटर पर रखना पड़ा। काफी कोशिशों के बावजूद वो ठीक नहीं हो पाए। आखिरकार शनिवार रात उनका निधन हो गया। उस समय भी डॉ. रितेश यहीं पर ड्यूटी दे रहे थे। 

 एक-एक दिन के लिए दो बार गए तो भी समय पर लौट आए

कोविड केयर सेंटर के इंचार्ज डॉक्टर सावनसिंह चौहान ने बताया, पिता के बीमार होने से रितेश परेशान थे। उनसे कहा भी कि चले जाएं, लेकिन वो नहीं गए। जब अनुमति लेकर एक-एक दिन के लिए दो बार गए तो भी समय पर लौट आए। बहुत कम लोग हैं जो निडर होकर कोरोना मरीजों के लिए काम कर रहे हैं। डॉ. रितेश उनमें से एक हैं।   

बड़ौदा में भर्ती बुजुर्ग जनरल वार्ड में शिफ्ट
शहर के लिए रविवार को एक और अच्छी खबर आई। 4 दिन पहले गुजरात के बड़ौदा में संक्रमित मिले हाउसिंग बोर्ड निवासी 74 साल के बुजुर्ग की ब्लड सैंपल रिपोर्ट निगेटिव आ गई। परिवार के लोगों ने बताया, अब उन्हें कोरोना वार्ड से जनरल वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है। यहां 5 दिन रखेंगे। बुजुर्ग को परिवार के लोग लीवर संबंधी बीमारी के उपचार के लिए बड़ौदा ले गए थे। वहां जांच में कोरोना संक्रमण निकला था।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर कोई विवादित भूमि संबंधी परेशानी चल रही है, तो आज किसी की मध्यस्थता द्वारा हल मिलने की पूरी संभावना है। अपने व्यवहार को सकारात्मक व सहयोगात्मक बनाकर रखें। परिवार व समाज में आपकी मान प्रतिष...

और पढ़ें

Advertisement