पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Jhabua
  • The Wheat That Was To Be Given To The Children In July August Is Now Available, The Teacher Was Also Taking It Elsewhere

हेराफेरी:बच्चों को जो गेहूं जुलाई-अगस्त में देना था, वो अब मिला, उसे भी कहीं और ले जा रहे थे शिक्षक

झाबुआ12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अनाज की हेराफेरी, बावड़ी में युवाओं ने जीप रुकवाई तो स्कूल में खाली कर दिया
  • ग्रामीणों ने एसडीएम को बुलाकर पंचनामा बनवाया

स्कूल बंद हैं तो बच्चों का मध्याह्न भोजन भी। वैसे जब मध्याह्न भोजन दिया जाता था, तब भी इसे लेकर शिकायतें आती थी। अब अलग तरह का खेल करने का आरोप सामने आ रहा है। रामा क्षेत्र के गांव बावड़ी के युवाओं का आरोप है कि उनके गांव के बच्चों के लिए मिला गेहूं-चावल प्रधान अध्यापक पारा की तरफ ले जा रहे थे। जब रोका तो गेहूं से भरी जीप स्कूल में ले गए और वहां खाली करा दिया।

इसके फोटो, वीडियो भी इन युवाओं ने लिए। 9 क्विंटल 19 किलो गेहूं और 64 किलो चावल की हेरफेर की कोशिश का आरोप लगाया है। रविवार को एसडीएम और तहसीलदार को बुलाकर पंचनामा बनवाया गया। जिस गेहूं की बात की जा रही है, वो वैसे तो जुलाई और अगस्त में ही बच्चों को दे दिया जाना था। लेकिन अब जाकर मिला।

हिंदू युवा जनजाति संगठन के कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया है। मंडल महामंत्री सुनील निनामा, जिला अध्यक्ष कमलेश मावी ने बताया, उन्हें इस बारे में पता चला तो गेहूं से भरी जीप का पीछा किया। ये स्कूल की बजाय कहीं ओर जाने लगी तो सरपंच वेस्ता जमरा, अपने साथी मुकेश देवड़ा, सुनील निनामा को बुलाया। झाबुआ में अफसरों को सूचना दी। जीप रोकी तो प्रधान अध्यापक उसे वापस गांव में ले आए। माध्यमिक स्कूल में मजदूरों से खाली करा दी। इसके फोटो, वीडियो बनाए।

अफसरों को बताया नियम बदल गए, अब शिक्षक को जिम्मेदारी दे दी है

अफसर शुरुआती तौर पर गड़बड़ से इंकार कर रहे हैं। ये भी कह रहे हैं कि सोमवार को विस्तृत रूप से जांच करेंगे। लेकिन यहां सवाल इसलिए भी उठ रहा है कि छुट्‌टी वाले दिन गेहूं क्यों उठाया गया। दूसरे भी पेंच हैं। जब एसडीएम ने स्कूल स्टाफ वालों से ये सवाल किया कि गेहूं, चावल भोजन देने वाले समूह को दिया जाता है तो शिक्षक क्यों लेकर आए तो उन्हें बताया, नियम बदल गए हैं। अब शिक्षक को जिम्मेदारी दे दी है।

जबकि सच ये

जिला शिक्षा केंद्र के डीपीसी एलएन प्रजापति ने बताया गेहूं का आवंटन मध्याह्न भोजन देने वाले समूह को ही होता है। अगस्त का आवंटन पहले हाे चुका है। अब तो अक्टूबर तक का आ गया। इसका वितरण भी शुरू हो चुका है। पहले पूरा काम समूह वाले देख रहे थे। लेकिन अब सीईओ जिला पंचायत ने निर्देश दिए हैं कि शिक्षक उनके साथ जाकर अनाज बंटवाएंगे। रजिस्टर में हर एक की इंट्री करेंगे।

जब स्कूल बंद तो अनाज ऐसे बांटना है

सरकार ने बच्चों को भोजन मुहैया कराने के लिए लॉकडाउन में नया सिस्टम बनाया। इसमें माध्यमिक और प्राथमिक स्कूल के हर बच्चे को हर महीने साढ़े 4 किलो अनाज देना तय किया। इसलिए आवंटन होता रहा और अनाज समूहों के पास आता रहा। पैकेट बनाकर बच्चों के घर जाकर ये अनाज देना है। जिले में कक्षा 1 से 8 तक 1 लाख 79 हजार 972 बच्चे दर्ज हैं।

स्कूल के कमरे में है गेहूं, पूरी जांच करेंगे

खबर मिलने पर मैं और तहसीलदार प्रवीण ओहरिया पहुंचे थे। गेहूं स्कूल के कमरे में रखा हुआ मिला। प्रक्रिया और नियम के बारे में पूरी जानकारी लेकर जांच करेंगे। अभी कमरे को सील कर दिया है।

-एमएल मालवीय, एसडीएम

मामला जांच में लिया है, नोटिस देकर स्पष्टीकरण लेंगे

ग्राम पंचायत बावड़ी में ग्रामीणों ने प्राथमिक व माध्यमिक विद्यालय में विद्यार्थियों को बांटने के लिए आए गेहूं को शिक्षकों द्वारा बाजार में बेचने के उद्देश्य से अंबा तक ले जाने की शिकायत की थी। पंचनामा बनाकर मामला जांच में लिया है। नोटिस देकर स्पष्टीकरण लिया जाएगा।

-प्रवीण ओहरिया, तहसीलदार

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपनी दिनचर्या को संतुलित तथा व्यवस्थित बनाकर रखें, जिससे अधिकतर काम समय पर पूरे होते जाएंगे। विद्यार्थियों तथा युवाओं को इंटरव्यू व करियर संबंधी परीक्षा में सफलता की पूरी संभावना है। इसलिए...

और पढ़ें