पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हत्या से दहशत:घर में घुसकर महिला की गोली मारकर हत्या, परिचित हो सकता है हमलावर

झाबुआ3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक नर्मदा मांझी। - Dainik Bhaskar
मृतक नर्मदा मांझी।
  • एक साल पहले घर छोड़ने वाला बड़ा बेटा शाम तक मां को देखने नहीं पहुंचा, उसकी तलाश जारी
  • पेटलावद अस्पताल में उपचार के दौरान मौत, सीने और कमर में लगी गोलियां

जिले के बामनिया गांव में मंगलवार सुबह घर में घुसकर 40 साल की महिला की गोली मारकर हत्या कर दी गई। गांव के अमरगढ़ रोड पर रहने वाली नर्मदा पति चंदू मांझी सुबह 9 बजे के करीब किचन में काम करी थी। तभी सफेद शर्ट और काली पेंट पहने एक युवक पीछे के रास्ते से घर में घुसा और नर्मदा पर तीन फायर किए। महिला को इनमें से दो गोली लगी।

बताया जाता है, एक गोली सीने में और दूसरी कमर के पास लगी। हमला करने के बाद युवक रेलवे ट्रैक की ओर भाग गया। घटना के समय महिला का पति और बेटा भी घर पर थे। वो आवाज सुनकर किचन में गए, तब तक आरोपी भाग चुका था। परिवार वाले और पड़ोसी घायल महिला को अस्पताल ले गए। यहां से पेटलावद सिविल अस्पताल ले जाया गया, जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। घटना के बाद चौकी प्रभारी नरेश निनामा टीम के साथ पहुंचे और अफसरों को घटना की सूचना दी। फॉरेंसिक एक्सपर्ट भी पहुंचे और जरूरी सैंपल लिए।

जांच की जा रही है

एसपी आशुतोष गुप्ता, एएसपी आनंदसिंह वास्कले, एसडीओपी सोनू डावर ने भी घटनास्थल का निरीक्षण किया। पुलिस ने सभी दिशाओं में नाकेबंदी कर दी, लेकिन शाम तक आरोपी का पता नहीं चल सका। शुरुआती तौर पर पुलिस कुछ बता नहीं रही, लेकिन जांच पारिवारिक विवाद की अाशंका के आधार पर शुरू की गई है। घरेलू विवाद के अलावा अन्य बिंदुओं पर भी जांच की जा रही है।

हमलावर घर के बारे में अच्छे से जानता था

पुलिस के अनुसार हमला करने वाला घर के बारे में काफी अच्छे से जानता था। उसे पिछले दरवाजे के बारे में पता था और वहां से भागने के रास्ते के बारे में भी। ऐसे में हमलावर कोई परिचित हो सकता है। गांव के लोगों का कहना है, परिवार मछली का व्यापार करता है। किसी से विवाद भी उनका नहीं है।

घटनास्थल पर जांच करती पुलिस और फोरेंसिक टीम।
घटनास्थल पर जांच करती पुलिस और फोरेंसिक टीम।

बड़ा बेटा मां के अंतिम संस्कार में भी नहीं आया

मृतक नर्मदा और चंदू के दो बेटे और दो बेटियां थी। एक बेटी की पूर्व में मौत हो चुकी है। बड़े बेटे ने पिछले साल प्रेम विवाह कर लिया और उसने घर छोड़ दिया। अभी घर में पति-पत्नी और छोटा बेटा रह रहे थे। मां की मौत के बावजूद वाे न अंतिम दर्शन के लिए पहुंचा और न ही अंतिम संस्कार में। वहीं बेटे के प्रेम विवाह को लेकर रंजिश वाले एंगल पर भी पुलिस जांच कर रही है।

हत्या का ये नया तरीका

जिले के क्राइम पैटर्न के हिसाब से यह एक नई तरह की घटना है। ऐसा नहीं है की हत्या जैसे अपराध नहीं होते, लेकिन इनमें धारदार हथियारों का उपयोग अधिकांश घटनाओं में हुआ है। अभी पुलिस इस घटना में प्रयोग किए गए हथियार को बरामद नहीं कर पाई है। इसलिए यह भी पता नहीं चल सका है कि यह देसी कट्टा है या रिवाल्वर। बामनिया जैसे छोटे गांव में हुई हत्या की इस घटना ने सबको चौंका दिया। गांव में भी लोग डरे हुए हैं।

चार दिन में दूसरी हत्या

जिले में हत्या का 4 दिन में यह दूसरा बड़ा मामला है। शनिवार को छोटी खरडू गांव में मुकेश नाम के युवक पर तीन लोगों ने हमला कर दिया था। घायल अवस्था में उसे उसके पैतृक घर के सामने छोड़कर चले गए। अस्पताल में उपचार के दौरान मुकेश की मौत हो गई। हत्या के आरोपियों को पुलिस ने अगले ही दिन गिरफ्तार कर लिया। इनमें से एक को ग्रामीणों ने पकड़ कर पुलिस के हवाले किया था। आरोपियों में दो युवक मृतक के साले हैं।

खबरें और भी हैं...