पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कथा:भगवान को सच्चे मन से याद किया जाए तो भक्तों की रक्षा करने वे स्वयं आते हैं: पं. मुरारी

जोबट2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कृष्ण मंदिर के ब्रह्मलीन पं. नाना महाराज की स्मृति में नानीबाई का मायरा प्रारंभ

कृष्ण मंदिर के ब्रह्मलीन पं. नाना महाराज की स्मृति में पांच दिवसीय नानी बाई के मायरे की कथा की शुरुआत हुई। शुभारंभ अवसर पर क्षेत्रीय सांसद गुमानसिंह डामोर, भाजपा जिलाध्यक्ष वकील सिंह ठकराला, पूर्व विधायक माधोसिंह डावर, जिपं अध्यक्ष इंदरसिंह चौहान, नप अध्यक्ष मति रमिला चौहान, भाजपा मंडल अध्यक्ष रमेश डावर सहित अन्य का स्वागत किया गया। अतिथियों ने जोबट नगर के दिव्य दिवंगत आत्माओं को श्रद्धांजलि दी। इस अवसर पर कृष्ण सेवा समिति के अध्यक्ष व भाजपा नेता पं. रघुनंदन शर्मा ने सांसद डामोर समेत सभी अतिथियों का शाल-श्रीफल भेंट कर सम्मान किया।

नानी बाई के मायरे की कथा सुनने के लिए नगर के स्थानीय श्रोता के साथ खट्टाली, नानपुर, आलीराजपुर, भाभरा, उदयगढ़, राणापुर, कुक्षी, सुसारी से बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। कथावाचक पं. अनिरुद्ध मुरारी ने कथा का शुभारंभ करते हुए कहा नानी बाई रो मायरो अटूट श्रद्धा पर आधारित प्रेरणादाई कथा है। कथा के माध्यम से भगवान श्रीकृष्ण का गुणगान किया जाता है। भगवान को यदि सच्चे मन से याद किया जाए तो वह अपने भक्तों की रक्षा करने स्वयं आते हैं। पं. मुरारी ने कहा है कि नानी बाई रो मायरो की शुरुआत नरसी भगत के जीवन से हुई।

नरसी का जन्म गुजरात के जूनागढ़ में करीब 600 साल पूर्व हिमायू के शासनकाल में हुआ। नरसी जन्म से ही बोल-सून नहीं सकते थे। वह अपनी दादी के पास रहते थे उनका एक भाई और भाभी भी थे। भाभी का स्वभाव कड़क था। एक संत की कृपा से नरसी की आवाज आई तथा उनका बहरापन भी ठीक हो गया। नरसी के माता-पिता गांव में फैली महामारी का शिकार हो गए। नरसी का विवाह हुआ। समय बीतने पर नरसी की लड़की नानी बाई का विवाह अंजार नगर में हुआ। इधर, नरसिंह की भाभी ने उन्हें घर से निकाल दिया नरसी श्रीकृष्ण के अटूट भक्त थे वह उन्हीं की भक्ति में लग गए। भगवान शंकर की कृपा से उन्होंने ठाकुरजी के दर्शन किए जहां हरिहर मिलन हुआ।

भजनों की प्रस्तुति पर झूमें श्रद्धालु : कथा के बीच-बीच में पंडित मुरारी ने भजनों की प्रस्तुति दी तो पांडाल में बैठे श्रद्धालु झूम उठे। इस मौके पर जोबट के प्रसिद्ध भजन गायक राजेंद्र कोदे, ऋषि शर्मा, भाजपा मंडल महामंत्री वासुदेव वाणी, शिवगंगा प्रमुख मोहित जैन, समाजसेवी गजेंद्र राठौड़, जयंती राठौड़, रमेश राठौड़, चंदू राठौड़, योगेंद्र श्रीवास्तव, सुनील श्रीवास्तव, रमाशंकर पारिक, रजनीश शर्मा सहित अनेक कार्यकर्ता व नगर के गणमान्य लोग उपस्थित थे। इस पांच दिवसीय कथा का समापन 13 जनवरी को होगा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

    और पढ़ें