पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लापरवाही:253 विद्यार्थियाें काे पढ़ाने के लिए मात्र एक स्थायी शिक्षक, कक्षाें की भी कमी

कमलापुर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
धींगरखेड़ा में पंचायत भवन में संचालित हाईस्कूल। - Dainik Bhaskar
धींगरखेड़ा में पंचायत भवन में संचालित हाईस्कूल।
  • धींगरखेड़ा के हाईस्कूल व मिडिल स्कूल का मामला, 9वीं-10वीं कक्षा पंचायत भवन में लग रही

पास के गांव धींगरखेड़ा में एक शाला एक परिसर के तहत हाईस्कूल और मिडिल स्कूल का विलय किया गया है। मिडिल स्कूल में 115 और हाईस्कूल में 138 कुल 253 विद्यार्थी हैं, लेकिन इन्हें पढ़ाने के लिए मात्र एक स्थायी शिक्षक है। हालांकि हाल ही में चार अतिथि शिक्षकाें काे रखा गया है। स्कूल में कमरे भी कम है। इसके चलते हाईस्कूल की कक्षाएं ताे पंचायत भवन में लग रही है।

स्कूल बिल्डिंग राजीव गांधी शिक्षा मिशन के तहत बनी थी। इसमें मात्र 3 कक्ष हैं और एक अतिरिक्त कक्ष बना है, जिसमें कक्षा 6ठी, 7वीं व 8वीं की क्लास लगती है। वहीं 9वीं और 10वीं की कक्षाएं करीब 300 मीटर दूर पंचायत भवन में लगाई जा रही हैं। मिडिल स्कूल के प्रधानाध्यापक छगन सारण ने बताया कि स्कूल भवन एवं शिक्षकों की मांग काे लेकर कई बार अधिकारियों को अवगत करवा चुके हैं।

इसके बावजूद अब तक काेई निराकरण नहीं हुआ है। जनप्रतिनिधियों के माध्यम से क्षेत्रीय विधायक को भी अवगत करवा चुके हैं। चार अतिथि शिक्षक रखे गए हैं। जबकि हाईस्कूल के लिए 6 शिक्षक एवं मिडिल स्कूल के लिए 4 शिक्षकों की आवश्यकता है। 1 सितंबर से मिडिल स्कूल भी चालू हो गया है। को-एजुकेशन के तहत बालक-बालिका दोनों पढ़ने आते हैं, लेकिन स्कूल में न ताे पर्याप्त कक्ष है और न ही पूरा स्टाफ है।

मिडिल में गणित, अंग्रेजी, सामाजिक विज्ञान व संस्कृत के शिक्षक ही नहीं है
वर्ष 2018 में हाईस्कूल की शुरुआत हुई थी। उस समय मिडिल स्कूल में मात्र 2 शिक्षक थे, जिसमें से एक का थोड़े समय बाद ट्रांसफर हो गया। हाईस्कूल में आज तक कोई शिक्षक नहीं आया।

मिडिल स्कूल में गणित, अंग्रेजी, सामाजिक विज्ञान एवं संस्कृत विषय के शिक्षकाें के पद खाली हैं। हाईस्कूल में संस्कृत का पद रिक्त है। स्टाफ में भी चार पद खाली है, लेकिन पोर्टल पर सिर्फ एक ही पद खाली होना बता रहा है।

सुधार होते ही शिक्षकों की भर्ती हो जाएगी
पाेर्टल पर शिक्षकाें के पद भरे हुए बताए जा रहे हैं। अपडेट करने के लिए वरिष्ठ अधिकारियाें काे लिखित में अवगत करवा दिया गया है। सुधार हाेते ही शिक्षकाें की भर्ती हाे जाएगी।
एनपी सिंह, बीईओ, बागली

खबरें और भी हैं...