पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पर्युषण पर्व:तप आराधना और स्वाध्याय के पर्व पर्युषण का समापन, वरघाेड़ा निकाला

कुक्षी4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सिर पर कलश लेकर चलती महिलाएं। - Dainik Bhaskar
सिर पर कलश लेकर चलती महिलाएं।

जैन समाज के पर्वाधिराज पर्युषण पर्व क्षमापना पर्व के साथ संपन्न हुए। जैन श्वेतांबर समाज द्वारा पांचों मंदिरों में जैन मूर्तिपूजक संघ द्वारा पूजा आरती प्रक्षाल के साथ मूलनायक की आकर्षक अंगीरचना की।

नवयुवक परिषद कुक्षी द्वारा पर्युषण महापर्व पर आठ दिवसीय धार्मिक कार्यक्रम किए। संवत्सरी के दिन जैन मंदिर में स्नात्र पूजन भक्ति भाव के साथ हुई। उपाश्रय में प्रतिक्रमण तप, त्याग, तपस्या के साथ शाम को प्रतिक्रमण किया। संवत्सरी प्रतिक्रमण के बाद समाज द्वारा सामूहिक क्षमा याचना की गई।

इसके साथ ही शनिवार को शांतिनाथजी के बड़े मंदिर से वरघोड़ा निकाला गया। वरघोड़े में तपस्वी आकर्षण का केंद्र रहे बग्गी में नन्हे मुन्हे तपस्वी बैठे हुए थे। पूरे वरघोड़े में महावीर स्वामीजी और तपस्वी की जय का जयघोष होता रहा।

खबरें और भी हैं...