पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

विवाद:मंदिर की जमीन पर बने मकान की मरम्मत को लेकर विवाद, अधिकारियों ने काम रूकवाया

बनेड़िया10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • महादेव मंदिर की जमीन को लेकर विवाद सालों से चला आ रहा है

मठ के नाम से ख्यात महादेव मंदिर की जमीन पर बने पुराने मकान की मरम्मत को लेकर विवाद हो गया। सूचना पर प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे और निर्माण रुकवाया। मंदिर की जगह में बने मकान में दुर्गा पुरी रहती थीं लेकिन कुछ समय पहले इंदौर में काम रहे अपने बेटे पास चली गई।

रविवार को दुर्गा इंदौर से आई और इस मकान की मरम्मत शुरू करवाई लेकिन वर्तमान पुजारी आशीष भारती ने देपालपुर थाने में शिकायत कर दी। इसमें उन्होंने बताया कि मैं मंदिर की पूजा करता हूं लेेकिन दुर्गा पुरी अतिक्रमण कर मकान बना रही है।

इस पर आरक्षक गणेश कुशवाह, महिला आरक्षक व पटवारी अजय जमरा मौके पर पहुंचे। वहां उन्होंने देखा कि दुर्गा पुरी मकान में जुड़ाई और प्लास्टर का काम करवा रही है तो उन्होंने काम रुकवा दिया। दुर्गा पुरी ने भी थाने में आवेदन दिया है, जिसमें उसने बताया कि सात पीढ़ियों से मेरा परिवार मंदिर की पूजा कर रहा था और इस मकान की मरम्मत करवाना और उसमें रहना मेरा हक है।

मंदिर की 32 बीघा जमीन को लेकर है विवाद

पहले मंदिर की पूजा दुर्गा पुरी के पिता किशन पुरी करते थे। मंदिर की 32 बीघा जमीन है, जिसमें हर सालों लाखों रुपए की फसल होती है। 10 साल पहले मंदिर के पीछे विराजित गिरगड़िया गौत्र के भेरूजी का मंदिर बनाने के दौरान यहां विवाद शुरू हुआ। उस समय तय हुआ था कि मंदिर की जमीन पर भेरूजी का मंदिर बनाने के एवज में दिए रुपए से महादेव मंदिर का भी जीर्णोद्धार हो जाएगा।

इसी दौरान रुपयों को लेकर विवाद हो गया। मामला थाने तक पहुंच गया। इसके बाद यहां दूसरे पुजारी की नियुक्ति कर दी गई। अब तक यहां चार पुजारियों की नियुक्ति हो चुकी है और किशन पुरी की बेटी दुर्गा पुरी भी अपने हक के लिए लगातार लड़ रही है। पंडित आशीष ने बताया कि मुझे प्रशासन ने नियुक्त किया है और इसकी संपत्ति की सुरक्षा करना मेरा काम है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थितियां आपके पक्ष में है। अधिकतर काम मन मुताबिक तरीके से संपन्न होते जाएंगे। किसी प्रिय मित्र से मुलाकात खुशी व ताजगी प्रदान करेगी। पारिवारिक सुख सुविधा संबंधी वस्तुओं के लिए शॉपिंग में ...

और पढ़ें