पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जलसंरक्षण काे लेकर कार्य:काकड़पुरा तालाब का गहरीकरण, मिट्‌टी से गायकवाड़ के तालाब की पाल बना रहे

महू19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
महू. काकड़पुरा तालाब में गहरीकरण का कार्य चल रहा हैं। - Dainik Bhaskar
महू. काकड़पुरा तालाब में गहरीकरण का कार्य चल रहा हैं।
  • महूगांव नपं क्षेत्र में मंत्री ठाकुर के निर्देश के बाद तेजी से चल रहा काम

महूगांव नपं द्वारा जलसंरक्षण काे लेकर कार्य किया जा रहा हैं। यहां पर क्षेत्रीय विधायक व मंत्री उषा ठाकुर ने तालाब का निरीक्षण करने के बाद इसे गहरा करने के निर्देश दिए थे। जिसके बाद यहां गहरीकरण का कार्य शुरू हुआ। इस तालाब की खुदाई से निकली मिट्टी से गायकवाड़ मुक्तिधाम के पीछे छाेटे तालाब की टूटी पाल काे संवारा जा रहा हैं।

जिससे की यहां भी पानी सहेजा जा सकें। यहां काकड़पुरा तालाब का गहरीकरण कार्य दिनभर में आठ घंटे किया जा रहा हैं। इस दाैरान दाे जेसीबी, एक पाेकलेन, पांच डंपर व चार ट्रेक्टर के माध्यम से यहां खुदाई का कार्य किया जा रहा हैं। इसमें खुदाई से निकलने वाली मिट्टी काे यहां गायकवाड़ क्षेत्र के निस्तार तालाब की पाल बनाने के काम में उपयाेग किया जा रह हैं।

इस तालाब के पाल बनने के बाद अब यहां पर भी बारिश का पानी सहेजा जा सकेगा। जिससे की आसपास के एरिया का जलस्ताेत्र बढ़ेगा। यहां काकड़पुरा तालाब का गहरीकरण करने के साथ ही मंत्री ठाकुर ने तालाब में जाे 0.56 एमएलडी का फिल्टर लगा था।

इस फिल्टर की क्षमता काे बदलकर यहां 2.5 एमएलडी का फिल्टर लगाने के लिए जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट से चर्चा की व तत्काल इसे लगाने का अधिकारियाें काे कहा हैं। जिससे की यहां तालाब से हाेने वाली पेयजल आपूर्ति की सुविधा काे फायदा मिलेगा। यहां महूगांव नपं के भाजपा नेता रामकिशाेर शुक्ला ने बताया काकड़पुरा तालाब से क्षेत्र में जलापूर्ति हाेती है। इसके गहरीकरण से वाॅटरलेवल बढ़ेगा। रहवासियाें काे गर्मी में भी पेयजल मिल सकेगा।

खबरें और भी हैं...