• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Mhow
  • Ganpati Bappa Marya..., Immersion Of Idols Of Ganesh Ji In Artificial Pool In Kakadpura Pond, Idols Kept On The Banks Only By Sprinkling At Gaeshala Ghat

अनंत चतुर्दशी:गणपति बप्पा माेरया..., काकड़पुरा तालाब में कृत्रिम कुंड में किया गणेशजी की प्रतिमाओं का विसर्जन, गाेशाला घाट पर सिर्फ छींटे देकर किनारे रखी प्रतिमाएं

महू2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
काकड़पुरा तालाब पर श्रद्धालुओं ने गणेशजी की प्रतिमा का कृत्रिम कुंड में उत्साह के साथ विसर्जन किया। - Dainik Bhaskar
काकड़पुरा तालाब पर श्रद्धालुओं ने गणेशजी की प्रतिमा का कृत्रिम कुंड में उत्साह के साथ विसर्जन किया।
  • दिनभर चला बप्पा की प्रतिमाओं काे विदाई देने का दाैर, चल समाराेह नहीं निकले, मिट्टी की प्रतिमाओं का घर में किया विसर्जन

अनंत चतुर्दशी पर्व पर दिनभर गणेशजी की प्रतिमाओं का विसर्जन का दाैर चला। काेराेनाकाल के चलते शहर में किसी भी तरह के सामूहिक चल समाराेह नहीं निकले। इसके साथ ही तालाबाें में भी कृत्रिम कुंड बनाकर प्रतिमाओं का विसर्जन किया गया। वहीं गाेशाला घाट पर श्रद्धालु प्रतिमाओं का विसर्जन नहीं कर सके। यहां पर श्रद्धालुओं ने प्रतिमा काे छींटे देकर घाट किनारे रखा। अब महूगांव नपं इन प्रतिमाओं का विधि-विधान के साथ विसर्जन करेगी।

अनंत चतुर्दशी पर लगातार दूसरे साल काेराेनाकाल व प्रशासन की सख्ती के चलते बप्पा की प्रतिमाओं का विसर्जन बगैर चल समाराेह व जलसे के हुआ। महूगांव नपं द्वारा भाटखेड़ी स्थित काकड़पुरा तालाब पर विसर्जन के लिए कृत्रिम कुंड बनाया गया था। यहां पर महू-पीथमपुर सहित अनेक इलाकाें से श्रद्धालु छाेटी व बड़ी गणेशजी की प्रतिमा लेकर पहुंचे व कुंड में इसका विसर्जन किया।

इसके अलावा तेलीखेड़ा स्थित गाेशाला घाट पर गंभीर नदी में महूगांव नपं के अमले ने गणेशजी की प्रतिमाओं का विसर्जन नहीं करने दिया। यहां पर महूगांव नपं के कर्मचारियाें ने बप्पा की प्रतिमा विसर्जित करने आए श्रद्धालुओं से प्रतिमा काे छींटे देकर घाट किनारे रखवाया। जिसके बाद अब नपं अमला इन प्रतिमाओं का कृत्रिम कुंड में विसर्जन करेगा।

ऐसा था विसर्जन का उत्साह...

विदाई से पूर्व सिर पर गणेश प्रतिमा रखकर ली फाेटो

काकड़पुरा तालाब पर प्रतिमा विसर्जित करने आए श्रद्धालुओं में उत्साह इस कदर था कि उन्हाेंने कुंड के समीप विसर्जन से पूर्व प्रतिमा काे सिर पर रखकर फाेटाे खिंचवाए। ताकि काेराेनाकाल का यह विसर्जन हमेशा के लिए यादगार हाे सकें।

ना गाजे-ना बाजे, पैदल ही लाए तालाब तक प्रतिमा

विसर्जन पर हर बार ढाेल-ढमाके व गाजे-बाजे के साथ श्रद्धालु गणेशजी की प्रतिमा तालाब तक लेकर पहुंचते थे। लेकिन काेराेना महामारी के चलते इस बार भी बगैर गाजे-बाजे के श्रद्धालु प्रतिमा तालाब तक पैदल ही लेकर आए।

बप्पा से की प्रार्थना काेराेना संक्रमण से जल्द मुक्ति मिले

विसर्जन से पूर्व श्रद्धालुओं ने कुंड किनारे ही प्रतिमा की सामूहिक आरती की। इस दाैरान श्रद्धालुओं ने बप्पा से प्रार्थना की कि काेराेना महामारी से जल्द मुक्ति मिले।

खबरें और भी हैं...