पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अनूठी परंपरा:शेर पर सवार होकर निकली मां अंबे, काला-गौरा भैरव भी साथ चले

गौतमपुराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रूणजी में होता है आयोजन, युवक बनता है शेर तो 12 साल तक के किशोर को मां अंबे का रूप दिया जाता है

यहां रूणजी में सोमवार तड़के 4 बजे शेर पर सवार होकर मां अंबे की सवारी (बाल गादी) निकली। इसमें एक युवक को शेर के वेश में तैयार किया गया तो एक 10 साल के किशोर को चुनरी पहनकार, हाथ में त्रिशूल, तलवार देकर मां अंबे का रूप दिया गया।

फिर शेर की पीठ पर बैठकर मां अंबे की बाल गादी (सवारी) मां अंबे के मंदिर से निकाली गई, जो 100 मीटर की दूरी का फासला तय कर नीम चौक पहुंची। साथ में काला-गौरा भैरव बने युवक भी निकले। यहां एक घंटे तक माताजी की आरती की गई। रास्ते में लोगों ने मां के दर्शन कर आशीर्वाद लिया।

यह अनूठा आयोजन दशहरे पर हर साल पाटीदार समाज द्वारा गांव में सुख-शांति और समृद्धि के लिए किया जाता है। यहां नौ दिन तक मां की आराधना के बाद दशहर के तड़के बाल गादी निकाली जाती है। परंपरा सालों से कायम है। रविवार रात को गरबे, भजन-कीर्तन के साथ जागरण किया गया तो तड़के 4 बजे ढोल-ढमाकों के साथ बाल गादी निकाली गई। आतिशबाजी भी की गई।

पंडित शिवनारायण शर्मा ने बताया कि 10 साल से वे किशोर का शृंगार मां अंबे के रूप में कर रहे हैं। इसके लिए रात 2 बजे से बालक को तैयार करना शुरू किया जाता है। इसमें करीब दो घंटे लगते हैं। बालक का मां की तरह पूरा सोलह शृंगार किया जाता है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज भविष्य को लेकर कुछ योजनाएं क्रियान्वित होंगी। ईश्वर के आशीर्वाद से आप उपलब्धियां भी हासिल कर लेंगे। अभी का किया हुआ परिश्रम आगे चलकर लाभ देगा। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे लोगों के ल...

और पढ़ें