पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दूसरी बार जीर्णाेद्धार:पुराने मंदिर की छत व गुंबद हाे रही थी जर्जर

महू14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शहर से करीब आठ किमी दूर स्थित करीब 200 साल पुराने अतिप्राचीन बड़गाेंदा बालाजी मंदिर का 50 साल बाद फिर से जीर्णाेद्धार हाे रहा है। यहां मंदिर का मुख्य गुंबद, सभा मंडप व छत काे ताेड़कर इसका पक्का निर्माण किया जा रहा हैं। यहां मंदिर के पुजारी कैलाशदास बैरागी ने बताया की बालाजी मंदिर में करीब 50 साल पूर्व गुबंद, सभा मंडप व छत का निर्माण हुआ था। अभी वर्तमान में गुबंद, छत व दीवारें आदि जर्जर हाे रही थी। जिसके चलते यहां मंदिर से जुड़े भक्ताें द्वारा इसका जीर्णाेद्धार कराने का निर्णय लिया।

जिसके बाद यहां मंदिर के मुख्य गुबंद, सभा मंडप की छत व आसपास की दीवाराें काे ताेड़ने की कार्य शुरू किया गया। अब इन दीवाराें काे फिर से पुराने स्वरूप के अनुसार ही पक्का निर्माण कर तैयार किया जाएगा। जिससे की यहां मंदिर में किसी भी तरह की समस्या नहीं हाे व मंदिर फिर से नए कलेवर में नजर आए। यहां मंदिर में पूरी तहसील के साथ ही आसपास के विभिन्न शहराें से श्रद्धालु दर्शन के लिए पहुंचते हैं।

खबरें और भी हैं...