बारिश में भी चालू रहेगा प्लांट:शेड में बारिश का पानी घुसने व करंट का रहता था डर, इसलिए प्लांट काे किया पैक

महू6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कैंटबाेर्ड के कचरा निष्पादन प्लांट काे अब शेड लगाकर कवर किया है। - Dainik Bhaskar
कैंटबाेर्ड के कचरा निष्पादन प्लांट काे अब शेड लगाकर कवर किया है।

कैंटबाेर्ड के ट्रेंचिंग मैदान पर कचरा निष्पादन प्लांट काे चाराें तरफ से कवर कर दिया गया है। अब बारिश के दिनाें में ट्रेंचिंग मैदान पर पानी घुसने व करंट फैलने से प्लांट बंद नहीं होगा। बारिश में भी प्लांट पर कचरा निष्पादन का कार्य चालू रहेगा। बीते साल जून के अंत में तेज हवा व बारिश का पानी घुसने से करंट फैलने की आशंका के चलते कैंटबाेर्ड के ट्रेंचिंग मैदान पर कचरा निष्पादन का काम लगभग 160 दिन तक बंद पड़ा था। जिसके चलते मैदान पर कचरे के ढेर लग गया था।

इसी समस्या काे लेकर भास्कर ने लगातार इंदाैर के ट्रेंचिंग मैदान की तर्ज पर इसे चाराें तरफ से कवर करने काे लेकर प्रमुखता से खबरें प्रकाशित की थी। जिसके बाद अब कैंटबाेर्ड ने ट्रेंचिंग मैदान पर कचरा करीब 10 हजार स्क्वेयर फीट में बने कचरा निष्पादन प्लांट काे चाराें तरफ से पैक कर दिया है।
नौ एकड़ में पूरा मैदान, हर दिन 20 टन के करीब कचरा हाेता है डंप

ट्रेंचिंग मैदान करीब नाे एकड़ में फैला हुआ है। इसमें दस हजार स्क्वेयर फीट एरिया में कचरा निष्पादन का प्लांट लगा हुआ है। जिसमें गीला व सूखे कचरे से खाद बनाने का काम चलता है। इस ट्रेंचिंग मैदान पर शहर के आठ वार्डाें से एकत्रित हाेना वाला करीब 20 टन कचरा प्रतिदिन डंप हाेता है।

पिछले साल यहां पर प्लांट खुला हाेने से बारिश का पानी घुसने के डर से कचरा निष्पादन 160 दिन से ज्यादा समय तक बंद रहा था। जिसके चलते बड़ी मात्रा में यहा कचरे का बैकलाॅट एकत्रित हाे गया था।
गीला व सूखा कचरा अलग-अलग ले रही गाड़ियां

वहीं कैंटबाेर्ड द्वारा स्वच्छता सर्वेक्षण के तहत कचरा कलेक्शन काे लेकर भी प्लान बनाकर काम किया जा रहा है। कैंटबाेर्ड सेनेटरी सुपरिटेंडेंट मनीष अग्रवाल ने बताया कि ट्रेंचिंग मैदान पर कचरा निष्पादन प्लांट काे व्यवस्थित शेड बनाकर चाराें तरफ से पैक किया है।

वहीं शहर में आठ वार्डाें में दिनभर में दाे बार डाेर-टू-डाेर कचरा कलेक्शन करने वाली गाड़ियां लाेगाें से गीला व सूखा कचरा अलग-अलग एकत्रित कर रही है। इसके अलावा तंग गलियाें से डाेर-टू-डाेर कचरा कलेक्शन के लिए हाथ गाड़ी भी तैयार की है। जिससे की अब वहां पर भी घर-घर से कचरा एकत्रित हाे रहा है। यह कचरा ट्रेंचिंग मैदान पर निष्पादन के लिए पहुंचाया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...