इंदौर में फर्जी क्राइम ब्रांच अफसरों की गैंग:जल्द अमीर बनने के लिए उम्रदराज लोगों को फंसाने लगे; युवती बातों में फंसाकर घुमाने लाती, युवक VIDEO बनाकर FIR के नाम पर रुपए ऐंठता था

इंदौरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

इंदौर में उम्रदराज और रिटायर्ड लोगों को लूटने वाली गैंग में शामिल युवती और युवक पकड़े गए हैं। यह दोनों शातिर तरीके से ठगी को अंजाम देते थे। पहले युवती लोगों को फोन करती थी और मेलजोल बढ़ाती थी। फिर उन्हें घुमाने के बहाने ले जाती थी। इस दौरान मौके पर पहुंचकर युवक दोनों के वीडियो बनाते थे और खुद को क्राइम ब्रांच का अफसर बताकर FIR दर्ज करने की धमकी देते थे और बदनामी का डर दिखाकर रुपए ऐंठते थे। पुलिस ने LIC के एक बुजुर्ग एजेंट से 2 लाख रुपए लूटने के मामले में युवक और युवती को शनिवार को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है।

TI तहजीब काजी के मुताबिक एक महीने पहले विजय नगर इलाके में एक 65 साल के LIC एजेंट हरिनिवास शर्मा से रुपए ऐंठने का मामला सामने आया था। युवती एकता चौहान और युवक आकाश गायकवाड़ ने LIC एजेंट को पहले फोन पर बीमा कराने के लिए संपर्क किया था। फिर युवती ने उन्हें जुलाई में मेघदूत पार्क मिलने बुलाया था।

युवती ने कहा कि उसने खाना नहीं खाया है। इस पर बुजुर्ग उसे जूस पिलाने ले गए। इस दौरान गैंग में शामिल युवक ने उनका वीडियो बना लिया। जब दोनों पार्क में बैठे थे, तब आकाश और गैंग का एक सदस्य क्राइम ब्रांच के अधिकारी बनकर पहुंचे। LIC एजेंट को थप्पड़ मारे। धमकी दी कि इस उम्र में लड़की घुमाने का वीडियो वायरल कर देगा। थाने ले जाकर FIR दर्ज करेगा, जिससे उसकी बदनामी होगी। डरे बुजुर्ग ने अपने बेटे विवेक से 2 लाख रुपए मंगवाकर दिए।

ऐसे खुला मामला
बुजुर्ग जब अपने घर गया तो परिवार वालों ने रुपए के बारे में पूछा। उसने पूरी घटना बताई। इसके बाद बेटा थाने लेकर पहुंचा और पूरी घटना बताई। पुलिस ने फोन नंबर के आधार पर एकता और आकाश को गिरफ्तार कर लिया। दूसरे युवक की भी पुलिस तलाश कर रही है।

ऐसे ढूंढते थे शिकार
आरोपी दो तरह से लोगों को फंसाते थे। पहला- सोशल मीडिया के माध्यम से सिर्फ उम्रदराज लोगों को ही अपना शिकार बनाते थे। आकाश ने पुलिस को बताया कि रिटायर्ड लोगों के पास रुपया होता है। कई लोग लड़कियों से दोस्ती भी करते हैं। इस कारण से इस उम्र के लोगों को शिकार बनाना आसान होता था। आरोपियों ने बताया कि सोशल मीडिया पर बातचीत करते थे और फिर उसे मिलने के लिए बुलाया करते थे।

युवती ने बताया वह दिनभर ऐसे लोगों को ढूंढती थी, जो भोले स्वभाव के होते हैं। उनका नंबर जुगाड़ कर अकेले में मिलने बुलाती। इसके बाद युवक क्राइम ब्रांच का अधिकारी बनकर मोबाइल में वीडियो बनाता था। कार्रवाई के नाम पर फोन पर एक दीया मैडम नाम की महिला से बात कराता। पुलिस दीया नाम की महिला की भी तलाश कर रही है।

जिम में दोस्ती, फिर बनाई गैंग
आकाश व अंजली ने 6 माह पहले ही गैंग बनाई। आकाश लालबाग स्थित जिम में ट्रेनर था। यहां अंजली भी आती थी। दोनों के बीच दोस्ती हुई तो जल्द रुपए कमाने के लिए दोनों ने ये काम शुरू कर दिया।

खबरें और भी हैं...