पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • 145 Janje In 7 Days In Four Cemeteries; Intelligence, STF, Police Also Sought Cemetery Data In Indore Coronavirus In India, MP Coronavirus Cases, Virus Cases In MP, COVID 19 Cases, Corona Virus Cases In Bhopal, Coronavirus Update In Madhya Pradesh, Coronavirus MP, Coronavirus Outbreak In MP

कोराेना या कुछ और:7 दिन में 145 जनाजे चार कब्रिस्तान में ; इंदौर में इंटेलिजेंस, एसटीएफ, पुलिस ने भी मांगा कब्रिस्तान का डाटा

इंदौरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मंगलवार को जनाजा लुनियापुरा कब्रिस्तान ले जाता शव वाहन। - Dainik Bhaskar
मंगलवार को जनाजा लुनियापुरा कब्रिस्तान ले जाता शव वाहन।
  • भास्कर के खुलासे के बाद राज्य सरकार ने भी इंटेलिजेंस के माध्यम से मौत के आंकड़ों की जानकारी ली
  • एक दिन में ही 18 जनाजे सिर्फ उन्हीं चार कब्रिस्तान में पहुंचे जो क्वारेंटाइन एरिया के लिए ही हैं

कोरोना संक्रमण में फंसे देश के सबसे स्वच्छ शहर में मुस्लिम समाज में बढ़े अचानक से मौत के आंकड़े का सिलसिला फिलहाल थम नहीं रहा है। अप्रैल के छह दिन में शहर के मात्र 4 कब्रिस्तान में मृत्यु का जो आंकड़ा 127 था वह सातवें दिन 145 पर पहुंच गया। मतलब एक दिन में ही 18 जनाजे सिर्फ उन्हीं चार कब्रिस्तान में पहुंचे जो क्वारेंटाइन एरिया के लिए ही हैं। भास्कर के खुलासे के बाद राज्य सरकार ने भी इंटेलिजेंस के माध्यम से मौत के आंकड़ों की जानकारी ली। 

मंगलवार को चारों कब्रिस्तान में एक ही दिन में 20 जनाजे आए

सिरपुर कब्रिस्तान का आंकड़ा
जनवरी - 13 
फरवरी- 14
मार्च - 28
7 अप्रैल शाम 
तक - 24 
महू नाका कब्रिस्तान
जनवरी - 50, फरवरी - 37 
मार्च - 46
7 अप्रैल शाम तक - 46 
खजराना कब्रिस्तान
जनवरी - 30 फरवरी - 33 
मार्च - 20
7 अप्रैल शाम तक - 29 
लुनियापुरा कब्रिस्तान
जनवरी-फरवरी के डेटा उपलब्ध नहीं
मार्च - 36
7 अप्रैल शाम
तक - 46

इधर चंदन नगर, छत्रीपुरा और खजराना में स्थानीय पुलिस ने कब्रिस्तान में रखे रजिस्टर की कॉपियां भी निकलवाई। दोपहर में ही अपर कलेक्टर कैलाश वानखेड़े और एएसपी राजेश रघुवंशी खजराना कब्रिस्तान पहुंचे। हालांकि उन्होंने इसे व्यवस्था संबंधी दौरा बताया। रघुवंशी ने जरूर कहा कि जिस तरह की संख्या खजराना कब्रिस्तान में मिली, उसके मुताबिक यहां व्यवस्थाएं हैं या नहीं? सुपुर्दे खाक करने वालों को किट भी दी गई, ताकि किसी तरह का संक्रमण उन्हें न हो। भास्कर पड़ताल में यह बात भी सामने आई कि अब तक जो मौत पिछले 7 दिन में हुई है, उनमें औसत आयु 64.41 आई। इसके लिए कब्रिस्तान से मिली सूची के हिसाब से 50 लोगों की मृत्यु की औसत उम्र निकाली गई। इलाज मिलता तो मां बच जाती  अप्रैल में मां शकीला बी को खो चुके राशिद अंसारी ने बताया- वो बीमार थीं। एक बार शुगर 700 होने के बाद ठीक हो गई थीं। हालात ऐसे ना होते और उन्हें इलाज मिल पाता तो वो इस बार भी बच जातीं। कोरोना जैसी समस्या नहीं थी। संभवत: दिल का दौरा पड़ा था  बसरीन बी के बेटे अबरार कुरैशी ने बताया- 3 अप्रैल को उनका इंतकाल हुआ था। कोरोना जैसी कोई बात नहीं थी। उनके जाने के बाद परिवार में नौ लोग हैं और सभी स्वस्थ हैं। संभवत: उन्हें दिल का दौरा पड़ा था।

खबरें और भी हैं...