डेढ़ किलो का ट्यूमर निकाल जान बचाई:मरीज के पेट में ट्यूमर तीन महीने में तीन गुना फैल गया, सर्जरी के बाद मरीज खतरे से बाहर

इंदौर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डॉक्टरों द्वारा निकाला गया ट्� - Dainik Bhaskar
डॉक्टरों द्वारा निकाला गया ट्�

इंडेक्स मेडिकल कॉलेज, हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेंटर में डॉक्टर्स की टीम ने 40 साल की महिला के पेट से 1.6 किलो का ट्यूमर निकाला है। यह सर्जरी सफल रही है और अब मरीज पूरी तरह स्वस्थ है।

सर्जरी करने वाली टीम में डॉ. नाज़िया नूर, डॉ. संजय पाटीदार और डॉ. नीलम बागवाले शामिल थे। उन्होंने बताया कि ट्यूमर का साइज इतना फैल गया था कि बाकी ऑर्गन्स पर भी प्रेशर बढ़ रहा था। इसके चलते तुरंत परिवार की सहमति लेकर सर्जरी की प्लानिंग की। डॉ. नाज़िया नूर (ऑब्सटेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी विभाग) ने बताया कि रामकिशोरी शर्मा निवासी गुना के गर्भाशय के पीछे 16 सेंटीमीटर की गांठ थी जिसे ‘ब्रॉड लिगामेंट फाइब्रॉइड’ के नाम से जानते हैं। इस गांठ के साथ मलाशय और यूरिन की नली चिपकी हुई थी। डॉक्टर्स की टीम द्वारा इस गांठ को सफलतापूर्वक सर्जरी के माध्यम से निकाला गया।

बड़ा ट्यूमर निकालने वाली टीम।
बड़ा ट्यूमर निकालने वाली टीम।

डॉ. नीलम बागवाले (असिस्टेंट प्रोफेसर, गायनोकोलॉजी विभाग) ने बताया कि मात्र तीन महीने में ही मरीज के पेट का ट्यूमर 5 से 16 सेंटीमीटर तक हो गया था, जिसका पता एमआरआई में चला। अल्ट्रासाउंड करने पर हमें यह ब्रॉड लिगामेंट फाइब्रॉइड जैसा लगा। साथ ही सर्जरी के पहले मरीज की कैंसर से संबंधित जांचें भी करवाई। इस सर्जरी की प्रक्रिया में युरेटर को चोट न पहुंचे इसलिए युरेटर में स्टेंट डलवा दिया था। सर्जरी के दौरान युरेटर को अलग किया और चिपकी हुई आंतों को भी अलग किया गया। सर्जरी कर 1.6 किलो ट्यूमर निकालने के साथ ही ने बच्चेदानी को भी निकाला गया। अब मरीज पूर्णतः स्वस्थ है। इंडेक्स ग्रुप के चेयरमेन सुरेश सिंह भदौरिया ने सफल सर्जरी करने वाली टीम की हौंसला अफजाई की है।

खबरें और भी हैं...