• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • 18 Thousand New Cases In 10 Days, Radhaswami Care Center Also Full; Announced 39 More Micro Containment Areas Including Gumashta Nagar, Dwarkapuri

ये संक्रमण काल है:10 दिन में 18 हजार नए केस, राधास्वामी केयर सेंटर भी फुल; गुमाश्ता नगर, द्वारकापुरी समेत 39 और माइक्रो कंटेनमेंट एरिया घोषित किए

इंदौर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आखिर कोई तो बेड दिला दो, मां जी की हालत बिगड़ रही है। - Dainik Bhaskar
आखिर कोई तो बेड दिला दो, मां जी की हालत बिगड़ रही है।

कोरोना संक्रमण अभी भी बेकाबू है। 10 दिन में 18 हजार नए केस सामने आ चुके हैं। अस्पतालों में तो बेड फुल हैं ही, राधास्वामी कोविड केयर सेंटर भी बुधवार को फुल हो गया। यहां 72 बेड खाली रखे गए हैं, जिनमें ऑक्सीजन के लिए फिटिंग चल रही है। दूसरे चरण के 600 बेड दो दिन में तैयार करने का दावा है। आईडीए सीईओ विवेक श्रोत्रिय ने बताया कोविड केयर सेंटर के दूसरे चरण में 600 बेड में आधे से ज्यादा तैयार हो चुके हैं। अभी एसी का ही काम बाकी है। अभी की स्थिति में पहले चरण के 600 बेड में से 528 बेड भर चुके हैं। 72 बेड ऑक्सीजन लाइन के लिए रिजर्व रखे हैं। अब तक यहां से 25 से ज्यादा लोग ठीक होकर लौट चुके हैं।
39 एरिया में 10 दिन सख्ती
शहर के ऐसे इलाके जहां पर 10 फीसदी से ज्यादा रहवासी कोरोना से संक्रमित हैं, उन इलाकों को अगले 10 दिन के लिए माइक्रो कंटेनमेंट एरिया घोषित किया गया है। इन इलाकों में सख्ती रहेगी। अगले 10 दिन तक इन इलाकों से रहवासी बाहर नहीं जा सकेंगे। वहीं बाहरी लोग यहां प्रवेेश नहीं कर सकेंगे। बैरिकेडिंग कर दी गई है। यहां ट्रेसिंग कर सैंपल लिए जाएंगे ताकि संक्रमण को रोका जा सके।

राम नगर, गणेश धाम, मयूर नगर, सिल्वर स्प्रिंग, श्रीकृष्ण एवेन्यू, श्रमिक कॉलोनी, कड़ाबीन (दूध वाली गली), ब्रह्मबाग कॉलोनी, ओंकार मार्ग, गांधी नगर स्थित सी-स्पेशल कॉलोनी, गणेश मार्ग, उषा नगर एक्सटेंशन, गंगा नगर, राज नगर एक्सटेंशन, गुमाश्ता नगर, स्कीम 103, वीर सावरकर नगर, नालंदा परिसर, द्वारकापुरी, शीतल नगर, आंबेडकर नगर, निपानिया में ओशियन पार्क, पीपल चौक, न्याय नगर, ग्रीन वैली, श्री मंगल नगर, डायमंड कॉलोनी, ब्रज विहार, वीणा नगर, स्नेह नगर, वैशाली नगर, गुरुनानक कॉलोनी, गंगा कॉलोनी, स्कीम 71, धन्वंतरि नगर, सूर्यदेव नगर, प्रजापत नगर को 10 दिन के लिए माइक्रो कंटेनमेंट एरिया बनाए हैं।

दूसरे चरण में मरीजों के लिए 600 बेड दो दिन में तैयार करने का दावा।
दूसरे चरण में मरीजों के लिए 600 बेड दो दिन में तैयार करने का दावा।

बेबसी के आंसू: रिक्शा में मां को लिए 6 अस्पताल भटके

अस्पतालों में बेड नहीं मिलने से मरीज रोज परेशान हैं। बुधवार को निरंजनपुर क्षेत्र निवासी 65 साल की कमला भार्गव काे बेटा सुरेश भर्ती करवाने गया। छह अस्पताल भटका, लेकिन कोई भर्ती करने को तैयार नहीं हुआ। गेट पर ही कह दिया जाता कि बेेड खाली नहीं है। 7 अप्रैल को कमला भार्गव को वैक्सीन का दूसरा डोज भी लग चुका है। उसके बाद उन्हें बुखार आया था। बुधवार को अचानक ऑक्सीजन लेवल कम होने लगा। बेटा एमटीएच, सुपर स्पेशिएलिटी समेत छह अस्पतालों में भटका।

खबरें और भी हैं...