• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • 250 To 300 VIP Numbers Do Not Get Any Buyer Every Time, 42799 Such Numbers Are Lying Vacant In Indore

प्रदेश में 4.61 लाख वीआईपी नंबर नहीं बिके:250 से 300 VIP नंबरों को हर बार नहीं मिलता कोई खरीदार, इंदौर में ऐसे 42799 नंबर खाली पड़े हैं

इंदौर4 महीने पहलेलेखक: गौरव शर्मा
  • कॉपी लिंक
वीआईपी नंबरों की डिमांड घटी - Dainik Bhaskar
वीआईपी नंबरों की डिमांड घटी
  • 0001, 0007, 0009 की ही डिमांड

वाहनों में कुछ खास ही वीआईपी नंबर हैं, जो बिकते हैं। 0001, 0007, 0009, 1111, 2222, 3333, 7777, 9999 जैसे नंबरों को छोड़ दें तो बाकी वाहन की हर सीरीज में 250-300 वीआईपी नंबर खाली रह रहे हैं। सात साल में सिर्फ इंदौर आरटीओ में 42799 नंबर जबकि प्रदेश में 4.61 लाख से ज्यादा नंबर नहीं बिके। परिवहन आयुक्त मुकेश जैन ने बताया कोई नंबर बिक नहीं रहा तो उसे किसी भी श्रेणी के वाहन में ई-नीलामी से दे सकें, ऐसा प्रस्ताव शासन को भेजा है।

इसलिए खाली रह जाते हैं वीआईपी नंबर
नंबरों के खाली रहने का कारण यह है कि 2014 के बाद जिस सीरीज का नंबर है, उसी में वह नंबर अलॉट किया जा रहा है। यानी टू-व्हीलर का नंबर टू-व्हीलर में और कार का नंबर कार में। वीआईपी नंबर की डिमांड सबसे ज्यादा कार में रहती है। उसमें ज्यादातर नंबर बिक जाते हैं। बाकी टू-व्हीलर, कमर्शियल वाहन और अन्य सीरीज में ये नंबर खाली हैं।

कार में 80 बार बिक चुका 0001, टू-व्हीलर में 22 बार से नहीं बिका
0001 नंबर 80 बार बिक चुका है। यह नंबर हाल ही में कार की सीरीज में 5 लाख से ज्यादा में बिका था। जो नंबर 0001 सबसे ज्यादा डिमांड में है, वही नंबर इंदौर आरटीओ में टू-व्हीलर की 22 सीरीज में खाली है। यानी 22 वाहनों में ये नंबर दिया जा सकता है।

खबरें और भी हैं...