• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • 2920 More Deaths In 2019 To 2020, 2420 Lives Were Snatched From The City In Just Three Months This Year.

मौत के आंकड़ों की अंत्येष्टि:2019 से 2020 में 2920 मौतें ज्यादा, इस साल सिर्फ तीन माह में ही शहर से 2420 जिंदगियां छिन गईं

इंदौर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 923 नए कोरोना मरीज मिले, 6 लोगों की मौत

रविवार को 6 मौतों के साथ शहर में आधिकारिक रूप से कोरोना संक्रमण के कारण अब तक 1005 लोग जान गंवा चुके हैं। हालांकि इस आंकड़े की सच्चाई पर कई सवाल हैं। रोज मुक्तिधाम में हो रही अंत्येष्टि और कागजों में दर्ज की जा रही मौतों में अंतर है। निगम और एलआईसी के डेथ क्लेम के आंकड़े अलग ही कहानी कह रहे हैं।

निगम के आंकड़े
कोविड प्रोटोकॉल से रोज हो रहे 20 अंतिम संस्कार

निगम के रिकॉर्ड के अनुसार, साल 2020 में शहर में 19,170 मौतें हुईं, जबकि वर्ष 2019 में आंकड़ा 16,250 ही था। यानी 2020 में 2920 मौतें ज्यादा हुईं। इधर, जनवरी से मार्च 2021 के बीच 5 प्रमुख मुक्तिधाम में 2420 अंतिम संस्कार हुए। शहर में 51 मुक्तिधाम, कब्रिस्तान है। प्रशासन ने निगम व मुक्तिधाम से आंकड़े जारी करने पर पाबंदी लगा रखी है। सेवादारों के अनुसार, रोज औसत 20 अंत्येष्टी कोविड प्रोटोकॉल से हाे रही है, रिकॉर्ड में सिर्फ 3 से 5 मौत दर्शाई जा रही हैं।

आंकड़ों का दूसरा सच
इंदौर डिविजन में 11 हजार डेथ क्लेम ज्यादा

मप्र-छत्तीसगढ़ में कोरोना से मौतों का सरकारी आंकड़ा 31 मार्च तक सिर्फ 8162 है, लेकिन भारतीय जीवन बीमा निगम का सेंट्रल जोन (एमपी-सीजी) अब तक 53,617 डेथ में 700 करोड़ का क्लेम दे चुका है। इंदौर-उज्जैन संभाग में नवंबर अंत तक 11,682 डेथ क्लेम के बदले 200 करोड़ से ज्यादा का भुगतान हुआ है। पिछले साल एलआईसी ने सेंट्रल जोन में 43 हजार डेथ क्लेम सेटल किए थे, इस साल यह आंकड़ा 53 हजार पर पहुंच चुका है। यानी पिछले साल से 10 हजार ज्यादा मौतें।

रिपोर्ट निगेटिव है तो कोविड में गिनती कैसे कर सकते हैं

  • जो मौतें सामने आ रही है, उनमें से अधिकांश की रिपोर्ट नेगेटिव आ रही है लेकिन लंग्स इंफेक्शन या अन्य किसी कारण से आती है तो उसे कोविड कैसे मान सकते है। फिर भी हम नजर रखे हुए है, ताकि किसी तरह का भ्रम न हो। - डॉ. अमित मालाकार, नोडल अधिकारी

आज से शुरू हो रहे कोरोना कर्फ्यू में दो बड़ी रियायत

4 घंटे खुलेंगी दूध, फल-सब्जी, किराना दुकानें, रेस्त्रां से होगी होम डिलीवरी

कोरोना संक्रमण की रफ्तार थामने जिला प्रशासन ने 12 से 16 अप्रैल तक कोरोना कर्फ्यू के लिए गाइड लाइन जारी कर दी है। 17-18 अप्रैल को पहले से लॉकडाउन है। इंदौर निगम सीमा के साथ ही जिले के आठों नगरीय निकाय, महू केंटोनमेंट, रंगवासा के व्यावसायिक संस्थान, शासकीय व अशासकीय दफ्तर बंद रहेंगे। सुबह 6 से 10 बजे तक 4 घंटे के लिए किराना दुकानें खुली रहेंगी।

फल व सब्जी के ठेले चालू रहेंगे। दूध वितरण भी 10 बजे तक हो सकेगा। प्रशासन ने राहत देते हुए होम डिलीवरी सुविधा जारी रखी है। ग्रॉसरी स्टोर होम डिलीवरी कर सकेंगे। साथ ही रेस्त्रां के किचन चालू रहेंगे और वे भी होम डिलीवरी कर सकेंगे। औद्योगिक क्षेत्रों में गतिविधियां जारी रहेंगी। कलेक्टर मनीष सिंह के अनुसार, छूट के दौरान प्रोटोकाॅल का पालन करना होगा, वरना कार्रवाई की जाएगी।

रियल एस्टेट के निर्माण चालू रहेंगे

  • पेट्रोल पंप- हाईवे के खुले रहेंगे, जबकि इंदौर शहर के चुनिंदा पेट्रोल पंप खोले जाएंगे।
  • किराना दुकान, ग्रॉसरी शॉप- सुबह 6 से 10 बजे तक खुलेंगी, होम डिलेवरी हो सकेगी। ग्राहक खुद जाकर भी ले सकंेगे।
  • शादियां- नहीं होंगी।
  • फल, सब्जी मंडी से ठेलों को फल, सब्जी दी जा सकेगी, जो वे सुबह 10 बजे तक बेच सकेंगे। हाट बाजार, फुटपाथ, सड़क पर नीचे रखकर फल-सब्जी नहीं बेची जाएगी।
  • छात्रों के होस्टल, मेस, टिफिन सेंटर सुबह और शाम चालू रहेंगे।
  • रेस्त्रां होम डिलीवरी कर सकेंगे।
  • बैंक, एटीएम, केंद्र के कार्यालय खुलेंगे। मप्र शासन के कोविड काम में लगे जरूरी कार्यालय ही खुलेंगेे।
  • वैक्सीन सेंटर चालू रहेंगे और यहां पात्र व्यक्ति आना-जाना कर सकेगा।
  • अखबार हॉकर, मीडियाकर्मी, यात्रियों का आना-जाना हो सकेगा।
  • रियल एस्टेट, निर्माण कार्य चालू रहेंगे।
  • रजिस्ट्री- पंजीयन दफ्तर चालू रहेंगे।
खबरें और भी हैं...