पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

टैक्स की मार:पानी के अब 200 के बजाय देना होंगे 400, कचरा शुल्क भी दोगुना, शहरवासियों पर निगम ने पहली बार सीवरेज चार्ज भी लगाया

इंदौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना काल में पहले से परेशान जनता की जेब पर नगर निगम ने हाथ डाला है। निगम 1 अप्रैल से कचरा प्रबंधन शुल्क के साथ ही जलकर भी दोगुना करने जा रहा है। लोगों पर एक नया कर सीवरेज चार्ज के रूप में भी लगाया जाएगा। अपर आयुक्त एस कृष्ण चैतन्य ने बताया निगम ने 2019-20 में कचरा प्रबंधन पर 204 करोड़ रुपए, पानी के संचालन और संधारण पर 302 करोड़ और सीवरेज के मेंटेनेंस पर 27 करोड़ रुपए खर्च किए।

इसके बदले मौजूदा रेट के हिसाब से नगर निगम को कचरा प्रबंधन शुल्क के 38 करोड़ रुपए और जलकर के 52 करोड़ रुपए प्राप्त हुए थे। निगम ने पांच गुना तक रेट बढ़ाए जाने की मांग के आधार पर ऑडिट रिपोर्ट बनाकर राज्य शासन को भेजी थी। गजट नोटिफिकेशन होने के बाद शासन से निगम को अधिकतम दोगुना तक रेट बढ़ाए जाने की अनुमति दी। नई दरों के हिसाब से रेट का प्रस्ताव बनाकर निगम प्रशासक व संभागायुक्त डॉ. पवन शर्मा के समक्ष रखा गया। इसे उन्होंने स्वीकृति दे दी। अब 1 अप्रैल 2021 से नई दरें प्रभावी होंगी।

जलकर का 60 प्रतिशत सीवरेज चार्ज

सीवरेज लाइन के मेंटेनेंस के लिए नई जलकर राशि का 60% कर सीवरेज चार्ज के रूप में भी लिया जाएगा। यह कर पहली बार नगर निगम द्वारा लगाया जा रहा है। उपयोग प्रभार (प्रति माह) आवासीय 240 व्यवसायिक 900 औद्योगिक 1308 शासकीय-अर्धशासकीय 240

संपत्ति कर : 3 से 4 फीसदी असर
इंदौर में संपत्तिकर के तीन रेट जोन 6, 8 व 10 प्रतिशत है। अगर किसी संपत्ति की एएलवी 6 से 36 हजार के बीच है तो उस पर 6 प्रतिशत संपत्तिकर लगता है, ऐसे ही 36 से 60 के बीच में होने पर 8 प्रतिशत और 60 हजार से ज्यादा होने पर 10 प्रतिशत संपत्तिकर लगेगा।

सेप्टेज मैनेजमेंट प्रभार भी, जहां लाइन नहीं
जहां सीवर लाइन नहीं है और सेप्टिक टैंक है, वहां अब सेप्टेज मैनेजमेंट चार्ज लिया जाएगा। इसकी राशि जलकर की 40 प्रतिशत होगी। इसके हिसाब से आवासीय और शासकीय के लिए 160 रुपए प्रतिमाह, व्यावसायिक के लिए 600 और औद्योगिक के लिए 872 रुपए प्रतिमाह चार्ज लिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...