पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खास बातचीत:रेलवे के एक प्रोजेक्ट को सिर्फ 1000 रुपए मिले, क्या आप इंदौर का पक्ष मजबूती से नहीं रख पाए?

इंदौर19 दिन पहलेलेखक: गौरव शर्मा
  • कॉपी लिंक
सांसद शंकर लालवानी । - Dainik Bhaskar
सांसद शंकर लालवानी ।
  • सांसद : हर प्रोजेक्ट पर हम लगातार बात कर रहे, कम बजट पर रेलवे भी गलती मान चुका
  • भास्कर ने सांसद से पूछा- 33 साल तक पीछे चल रहे रेलवे प्रोजेक्ट, कहां हैं इंदौर की आवाज उठाने वाले?

इंदौर से जुड़े रेल प्रोजेक्ट का लगातार पिछड़ना, किसी प्रोजेक्ट के लिए बजट में मात्र एक हजार रुपए स्वीकृत करना, रेलवे अफसरों द्वारा अनदेखी करना, किसी प्रोजेक्ट को होल्ड पर डाल देना किसी प्रोजेक्ट का 8 से 33 साल पिछड़ना। रेल सेवाओं पर रेलवे और रेल मंत्री की इसी अनदेखी को लेकर भास्कर ने सांसद शंकर लालवानी से सीधे सवाल किए।

1. रेलवे प्रोजेक्ट को लेकर इंदौर के साथ ऐसी बेरुखी क्यों? तीन दशक बीत गए। इंदौर को कब मिलेगा हक?
रेल प्रोजेक्ट को लेकर हम लगातार रेल मंत्री से मिल रहे हैं। रेलवे अधिकारियों से हाल ही में चर्चा भी की। अफसरों ने सारे प्रोजेक्ट पर काम शुरू करने का कहा है।

2. इंदौर-दाहोद, रतलाम-अकोला प्रोजेक्ट पर काम बंद है। ये प्रोजेक्ट होल्ड क्यों किए गए?
जो प्रोजेक्ट जल्दी (तीन-चार साल में) पूरे होने वाले हैं, ऐसे प्रोजेक्ट रेलवे की प्राथमिकता में हैं। इसीलिए पहले उत्तर भारत, जम्मू-कश्मीर में तेजी से रेल प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है। उनको 2024 तक पूरा करना है।

3. इंदौर-देवास-उज्जैन लाइन डबलिंग का काम तो दो साल में ही पूरा हो जाना चाहिए। फिर भी इस महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट को महज एक हजार रुपए का बजट क्यों दिया?
बजट में सिर्फ एक हजार रुपए रखने के मामले में रेलवे अधिकारियों ने अपनी गलती मान ली है। अधिकारियों ने स्पष्ट किया है कि इस प्रोजेक्ट को अतिरिक्त बजट मिलेगा। यह प्रोजेक्ट रेलवे जल्द पूरा करेगा। इसको लेकर बात हो चुकी है।

4. महू के आगे घाट सेक्शन में रेलवे 25 साल से सिर्फ सर्वे ही कर रहा। काम अब तक शुरू क्यों नहीं हुआ?
शुक्रवार को ही मैं रेल मंत्री से मिला। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए। उसके बाद अधिकारियों से चर्चा की। घाट सेक्शन को लेकर नए सर्वे का प्रस्ताव बोर्ड के पास गया है। मंजूरी मिलते ही काम शुरू हो जाएगा। इस प्रोजेक्ट को फंड भी 265 करोड़ का सबसे ज्यादा मिला है। अब इसे प्राथमिकता में पूरा करवाएंगे।

5. इंदौर-दाहोद प्रोजेक्ट का बजट ही 20 करोड़ का मिला? मशीनें तक मौके से रवाना हो गई हैं। ऐसे में इस प्रोजेक्ट पर दोबारा काम कैसे शुरू होगा?
टिही तक आधी टनल बन गई है। डेढ़ किमी का काम बाकी है। एेसे में रेलवे चाह रहा कि टनल का काम पूरा हो अौर यह लाइन धार तक जुड़ जाए। ये काम डेढ़-दो साल में पूरा हो जाएगा। छोटा उदयपुर-धार लाइन में जोबट के आगे तक काम हो चुका है। जोबट से धार तक का बाकी है। दोनों हिस्सों से काम होगा तो भी विकल्प मिलेगा अौर गुजरात के लिए कनेक्टिविटी हो जाएगी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपकी प्रतिभा और व्यक्तित्व खुलकर लोगों के सामने आएंगे और आप अपने कार्यों को बेहतरीन तरीके से संपन्न करेंगे। आपके विरोधी आपके समक्ष टिक नहीं पाएंगे। समाज में भी मान-सम्मान बना रहेगा। नेग...

    और पढ़ें