• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • A Total Amount Of More Than 57 Lakhs Fixed As National And State Honors, Details Will Have To Be Sent By November 30

साहित्यकारों के लिए पुरस्कार जीतने का मौका:राष्ट्रीय और राज्य सम्मान के लिए 57 लाख से ज्यादा के अवार्ड; जानिए कैसे, कब तक भेजनी है एंट्री

इंदौर22 दिन पहले

मप्र शासन, संस्कृति विभाग द्वारा कला, साहित्य, सिनेमा, संस्कृति एवं समाज सेवा की विभिन्न विधाओं के क्षेत्र की विभूतियों को राष्ट्रीय व राज्य सम्मान से नवाजा जाएगा। इसके लिए मप्र शासन ने 57 लाख से ज्यादा की राशि तय की है। इसके तहत कुल 32 विभूतियों का सम्मान होगा। 23 विभूतियों को राष्ट्रीय सम्मान तो 9 विभूतियों को राज्य सम्मान दिया जाएगा। विभूतियों को जिन राष्ट्रीय सम्मान से सम्मानित किया जाना है, इनमें ये हैं...

सम्मान विधा राशि

  • महात्मा गांधी सम्मान गांधी विचार दर्शन संस्था के लिए 10 लाख
  • कबीर सम्मान भारतीय भाषाओं की कविता के लिए 3 लाख
  • कालिदास सम्मान शास्त्रीय संगीत के लिए 2 लाख
  • कालिदास सम्मान शास्त्रीय नृत्य के लिए 2 लाख
  • कालिदास सम्मान रंगकर्म के लिए 2 लाख
  • कालिदास सम्मान रूपंकर कलाएं के लिए 2 लाख
  • मैथिलीशरण गुप्त सम्मान हिन्दी साहित्य के लिए 2 लाख
  • किशोर कुमार सम्मान(फिल्म) निर्देशन के लिए 2 लाख
  • तानसेन सम्मान हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत के लिए 2 लाख
  • लता मंगेश्कर सम्मान (फिल्म) पार्श्व गायक के लिए 2 लाख
  • इकबाल सम्मान उर्दू साहित्य के लिए 2 लाख
  • देवी अहिल्या सम्मान (महिला) लोक एवं जनजातीय पारंपरिक कलाओं के लिए 2 लाख
  • तुलसी सम्मान (पुरुष) लोक एवं जनजातीय पारंपरिक कलाओं के क्षेत्र में प्रदर्शनकारी कलाओं के लिए 2 लाख
  • शरद जोशी सम्मान हिन्दी व्यंग्य, ललित निबंध, संस्मरण रिपोर्ताज, डायरी, पत्र लेखन आदि के लिए 2 लाख

(नानाजी देशमुख सम्मान सामाजिक, सांस्कृतिक समरसता, उत्थान, पारिष्कार, आध्यात्म, परंपरा, समाज एवं विकास तथा संस्कृति की मूल अवधारणा के प्रति कार्य करने 2 लाख समाज एवं विकास तथा संस्कृति की मूल अवधारणा के प्रति कार्य करने वाले व्यक्ति अथवा संस्था)

  • कवि प्रदीप सम्मान मंचीय कविता के क्षेत्र में 2 लाख
  • कुमार गंध‌र्व सम्मान शास्त्रीय नृत्य (आयु समूह 24 से 45 साल) के लिए 1.25 लाख
  • राजा मानसिंह तोमर सम्मान संगीत, संस्कृति एवं कला संरक्षण में कार्य करने वाली संस्था के लिए 1 लाख
  • सूचना प्रौद्योगिकी सम्मान हिन्दी सॉफ्टवेयर सर्च इंजन, वेब डिजाइनिंग, डिजिटल भाषा के लिए 1 लाख
  • निर्मल वर्मा सम्मान भारतीय अप्रवासी होकर विदेश में हिंदी के विकास में अमूल्य योगदान प्रयोगशाला, प्रोग्रामिंग, सोशल मीडिया, डिजीटल ऑडियो विजुअल के लिए 1 लाख

एडिटिंग आदि में उत्कृष्ट योगदान पर

  • फादर कामिल बुल्के सम्मान विदेशी मूल के व्यक्ति के हिंदी भाषा एवं उसकी बोलियों के विकास में उत्कृष्ट योगदान पर 1 लाख
  • गुणाकर मुले सम्मान हिंदी में वैज्ञानिक एवं तकनीकी लेखन एवं पाठ्य-पुस्तकों के लिए लेखन 1 लाख
  • हिन्दी सेवा सम्मान अहिंदी भाषी लेखकों और साहित्यकारों को लेखन-सृजन से हिंदी की समृद्धि के लिए योगदान पर 1 लाख

इसी तरह राज्य सम्मान के लिए 9 शिखर सम्मान हैं। इसमें हिंदी साहित्य (1 लाख), उर्दू साहित्य (1 लाख), संस्कृत साहित्य (1 लाख), रूपंकर साहित्य (1 लाख), नृत्य (1 लाख),नाटक (1 लाख),संगीत (1लाख), आदिवासी एवं लोक कलाएं (1 लाख), दुर्लभ वाद्य वादन के लिए 1लाख की राशि दी जाएगी। सम्मान के अंतर्गत आयकर मुक्त सम्मान राशि एवं प्रशत्ति पट्टिका भेंट की जाती है।

ऐसे प्रारूप में भेजना होगी अनुशंसाएं

  • सम्मान का नाम (जिसके लिए अनुशंसा की जा रही है)
  • पूरा नाम
  • आयु
  • वर्तमान पता और मोबाइल, टेलिफोन नंबर और ई-मेल आदि
  • सृजनात्मक एवं प्रतिष्ठादायी उपलब्धियों का विवरण, फोटो, ब्रोशर, कैटलॉग आदि

प्रत्येक सम्मान के लिए अलग-अलग अनुशंसाएं 30 नवंबर तक संचालक, संस्कृति संचालनालय, 1-शिवाजी नगर (रेडक्रॉस अस्पताल के पीछे), भोपाल के पते पर पहुंचाना होंगी।

खबरें और भी हैं...