पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इंदौर गोलीकांड में खुलासा:गर्लफ्रेंड के रेगुलर कॉन्टैक्ट में था गुंडा हेमू ठाकुर, बोला- नेपाल जाऊंगा, दो-तीन महीने बाद ही लौटूंगा.. वहीं भागने का शक

इंदौर2 महीने पहलेलेखक: हेमंत नागले
सफेद शर्ट में चिंटू ठाकुर और हेमू ठाकुर (काली टीशर्ट में)

शराब कारोबारी अर्जुन ठाकुर को गोली मारकर भागने वाले गैंगस्टर सतीश भाऊ और चिंटू ठाकुर विजयनगर पुलिस की गिरफ्त में आ गए। पुलिस के अनुसार आरोपी भोपाल बायपास से पकड़ाए हैं। फिलहाल, एक आरोपी हेमू ठाकुर फरार है। आरोपियों के पास से एक पिस्टल मिली है। बताया जा रहा है कि वारदात के बाद आरोपी हेमू ठाकुर लगातार गर्लफ्रेंड के संपर्क में था। उसने गर्लफ्रेंड से कहा था कि वह जल्द ही नेपाल चला जाएगा। दो-तीन महीने बाद ही लौटेगा। लोकेशन के आधार पर पुलिस ने दो को दबोच लिया लेकिन हेमू ठाकुर बचकर भाग गया।

दो दिन पहले शराब कारोबारी अर्जुन ठाकुर पर सिंडिकेंट में तीनों लोगों द्वारा गोली चलाई गई थी। गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी आरोपियों पर कार्रवाई करने की बात कही थी। इधर, जिला प्रशासन और पुलिस आरोपियों पर लगातार दबाव बना रहा था। प्रशासन ने आरोपियों पर रासुका लगाने की तैयारी कर ली थी।

आरोपियों ने बताई ये घटना
सोमवार सुबह गांधीनगर नवदापंथ शराब दुकान को लेकर पिंटू ठाकुर और अर्जुन ठाकुर के बीच कहासुनी हुई। विवाद को खत्म करने के लिए विजय नगर थाना क्षेत्र स्थित सिंडिकेट ऑफिस पर अर्जुन को बुलाया गया। अर्जुन अपने समर्थकों के साथ ऑफिस पहुंचा। यहां 3:15 बजे करीब पिंटू ठाकुर, हेमू ठाकुर और उसके साथ गैंगस्टर सतीश भाऊ, शूटर रितेश, शूटर मोनू और शूटर दयाराम​ भी पहुंचे थे।

अर्जुन और हेमू ठाकुर बात ही कर रहे थे कि बहस शुरू हो गई। इसके बाद केबिन के अंदर से दयाराम द्वारा एक फायर छत पर किया गया, जो गोली जाकर अर्जुन ठाकुर की पीठ में लगी। वहीं, एक अन्य आरोपी ने देशी कट्टे से फायर किया, जिसके छर्रे जमीन पर लगते हुए अर्जुन के पेट में जा लगे। इसके बाद बाहर खड़ी कार में आरोपी फरार हो गए।

पुलिस गिरफ्त में सतीश भाऊ और चिंटू ठाकुर।
पुलिस गिरफ्त में सतीश भाऊ और चिंटू ठाकुर।

उज्जैन, देवास, ग्वालियर में काटी फरारी
वारदात के बाद आरोपी हेमू ठाकुर, चिंटू ठाकुर, सतीश भाऊ उनके साथियों के साथ गाड़ी से उज्जैन की ओर भागे। इसके बाद उज्जैन देवास होते हुए सभी आरोपी ग्वालियर निकल गए। इंदौर में हेमू ठाकुर गर्लफ्रेंड से लगातार संपर्क में था। ग्वालियर तक जाने में मामले की गंभीरता को देखते हुए उन्होंने कई जगह सरेंडर होने का प्रयास किया, लेकिन बात नहीं बनी।

शराब व्यापारी गोलीकांड में दो आरोपी हुए सरेंडर:इंदौर पुलिस ने कहा- नेपाल भागने की फिराक में थे, भोपाल बायपास से दोनों को पकड़ा है

गर्लफ्रेंड को कहा था- नेपाल जाना है
पुलिस ने आरोपी के मोबाइल सर्विलांस पर डाल रखे थे। हेमू ठाकुर अपनी गर्लफ्रेंड से लगातार बातें कर रहा था। उसने बताया था कि वह जल्द नेपाल निकल जाएगा। दो से तीन महीने बाद फिर लौटेगा। इसके बाद पुलिस द्वारा ​​​​​​आरोपियों के परिवार की महिलाएं और रिश्तेदारों को पुलिस पूछताछ के लिए थाने ले आई थी। आरोपियों पर लगातार दबाव बनता रहा। बुधवार सुबह पुलिस ने आरोपियों को भोपाल बायपास से पकड़ा। पुलिस की मानें तो गैंगस्टर सतीश भाऊ हमेशा कैमरे की नजर में ही रहता है, वह जिस जगह फरारी काटता था, वहां आईपी कैमरा लगा था।

जूते-चप्पल की दुकान पर काम करने वाले की ईमानदारी:जबलपुर में LIC कर्मी के बैग से गिरे 2 लाख रुपए लौटाए; पैसे वापस करने वाले ने कहा- किसी की अमानत को कैसे लगाता हाथ