• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Along With Returns, Physical Fitness Is Also Necessary, The Destination Can Be Achieved With Constant Effort

पुलिस कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा-2020:रिटन एग्जाम के अलावा 800 मीटर दौड़ भी; गोला फेंक और लंबी कूद में पास होना जरूरी

इंदौर3 दिन पहले

पुलिस कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा जनवरी-2022 में प्रस्तावित है। रिटन एग्जाम के परिणाम आने के बाद बहुत कम समय शारीरिक दक्षता परीक्षा के लिए मिलता है, इसलिए इस एग्जाम में सफल होने के लिए परीक्षार्थियों को किन-किन बातों का ध्यान रखने की जरूरत है और कैसे वे इस परीक्षा में सफल हो सकते हैं, जानते हैं एक्सपर्ट लखन सिंह यादव (फोर्स डिफेंस एकेडमी, इंदौर के निदेशक) से...

लखन सिंह यादव के मुताबिक, परीक्षा में शारीरिक दक्षता परीक्षा काफी महत्वपूर्ण होती है। फिजिकल के लिए जो परीक्षार्थी तैयारी करते हैं, उसमें तीन विधाएं होती हैं, जिसमें यह एग्जाम ली जाती है। सबसे पहले 800 मीटर की दौड़, गोला फेंक और तीसरी लंबी कूद। इन तीनों विधाओं में परीक्षार्थियों का पास होना बहुत जरूरी होता है। पुलिस कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा में कहीं न कहीं परीक्षार्थियों की एवरेज उम्र 23 से 25 साल हो चुकी होती है, इसलिए फिजिकल एग्जाम की तैयारी रिटर्न एग्जाम के साथ ही कर दें तो अच्छा होगा, क्योंकि उम्र के साथ फिजिकल परफॉर्मेंस में थोड़ा फर्क आता है।

पुलिस कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा 2020: फॉर्मेट तय करें कि कितने दिन में किस सब्जेक्ट को पूरा करना है, सरल टॉपिक्स से शुरुआत करें

फिजिकल एग्जाम के लिए अच्छी तैयारी की जरूरत
एक्सपर्ट यादव के अनुसार, फिजिकल पैरामीटर की बात करें तो इस एग्जाम में 800 मीटर की दौड़ होती है। 800 मीटर की दौड़ लड़कों-लड़कियों के लिए एक समान होती है, लेकिन इसमें लड़कों के लिए 2 मिनट 45 सेकंड का समय दिया जाता है, जबकि लड़कियों के लिए 4 मिनट का समय दिया जाता है। यहां परीक्षार्थियों को ध्यान रखने की बात है कि इस दौड़ के कोई नंबर नहीं होते हैं, यह उन्हें पास करना होती ही है।

वहीं, गोला फेंक में लड़कों को 19 फीट तो लड़कियों के लिए 15 फीट दूर फेंकना होता है। लड़कों के लिए गोले का वजन 7 किलो 260 ग्राम होता है। लड़कियों के लिए गोले का वजन 4 किलो होता है। इसके अलावा लंबी कूद में लड़कों के लिए 13 फीट तो लड़कियों के लिए 10 फीट होती है। इन सभी की अच्छे से तैयारी की जाए तो परीक्षार्थी आसानी से एग्जाम निकाल सकता है। दौड़ के लिए सिर्फ एक मौका मिलता है, जबकि गोला फेंक और लंबी कूद के लिए तीन-तीन प्रयास दिए जाते हैं।

वॉर्मअप और योगा से करें शुरुआत
उन्होंने बताया अभी के वक्त में कई परीक्षार्थी पुलिस कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा की रिटर्न एग्जाम की तैयारी में लगे हैं, इसलिए उनके मसल्स में इतनी फैक्जीबिलिटी नहीं होती है। जरूरी है कि परीक्षार्थी वॉर्मअप से शुरुआत करें। वे इसके साथ योगा भी कर सकते हैं। 5 से 6 दिनों में इसका रोजाना अभ्यास करने के बाद दौड़, गोला फेंकने और लंबी कूद की प्रैक्टिस कर सकते हैं। एकदम से पूरी परफार्मेंस देने की कोशिश न करें। यह कोई कठिन काम नहीं है। हर कोई परीक्षार्थी इसे कर सकता है। कहते हैं कि निरंतर प्रयास से ही सफलता मिलती है।

पुलिस कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा-2020:मैथ्स और रीजनिंग पर ज्यादा फोकस की सलाह, एक्सपर्ट बोले- 60 सवाल इन्हीं सब्जेक्ट से आते हैं

शारीरिक दक्षता बनाए रखें
पुलिस कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा में, 2017 की मैरिट लिस्ट में बाहर होने वाली परीक्षार्थी भी शामिल हो रहे हैं। कुछ परीक्षार्थी ऐसे हैं, जो रिटर्न एग्जाम पास चुके थे, मगर फिजिकल एग्जाम में पास नहीं हुए। इसके चलते करीब 4 साल का गैप भी हो गया है, इसलिए परीक्षार्थियों के लिए जरूरी है कि वे अपने पुराने परफार्मेंस से अपने परफार्मेंस को न आंकें। शारीरिक दक्षता को बनाए रखें और फिजिकल वर्क आउट करते रहें।

मध्यप्रदेश प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (MPPEB) ने एमपी पुलिस कांस्टेबल के 4000 पदों पर भर्ती के लिए आवेदन मांगे थे। इस परीक्षा के लिए 12 लाख 16 हजार से अधिक उम्‍मीदवारों ने आवेदन किया है। जनवरी में प्रस्तावित परीक्षा में लाखों छात्रों के बैठने की संभावना है। इन पदों पर आवेदन करने वाले कैंडिडेट्स 10वीं पास होना चाहिए, हालांकि, रिजर्व कैटेगरी के कैंडिडेट्स को शैक्षणिक योग्यता में छूट दी जाएगी।