पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Coronavirus Indore Latest Updates Total Covid 19 Cases Death Toll In Mahu Naka Tatpatti Bakhal Ranipura Daulatganj Hathipala Khajrana Chandannagar | Indore COVID 19 Situation Update

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

क्या इंदौर में कोरोना के आंकड़े आधी तस्वीर दिखा रहे:संक्रमण प्रभावित इलाकों के 4 कब्रिस्तान, इनमें अप्रैल के 6 दिन में 127 जनाजे पहुंचे, पूरे मार्च में 130 आए थे

इंदौरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लुनियापुरा कब्रिस्तान मे कोरोना मरीज को दफनाने लाया गया। शव के साथ आया एक युवक तो पूरी किट पहना था, लेकिन साथ कब्रिस्तान के कर्मचारियोंं के पास न तो किट थी, न मास्क। - Dainik Bhaskar
लुनियापुरा कब्रिस्तान मे कोरोना मरीज को दफनाने लाया गया। शव के साथ आया एक युवक तो पूरी किट पहना था, लेकिन साथ कब्रिस्तान के कर्मचारियोंं के पास न तो किट थी, न मास्क।
  • शहर में मार्च की अपेक्षा अप्रैल के मात्र छह दिनों में ही अचानक मुस्लिम समाज में मृत्यु दर बढ़ी है
  • इंदौरवासियों से अपील- मामला गंभीर, आसपास कोई पॉजिटिव है तो लक्षण दिखते ही छिपाएं नहीं, सामने आएं

हरिनारायण शर्मा. कोरोना संक्रमण और देश में हुई 129 मौत में इंदौर में मौत का आंकड़ा 13 तक पहुंच गया है। चौंकाने वाली बात यह है कि शहर में मार्च की अपेक्षा अप्रैल के मात्र छह दिनों में ही अचानक मुस्लिम समाज में मृत्यु दर बढ़ी है। शहर के चार बड़े कब्रिस्तानाें से मिले आंकड़े ताे यही कह रहे हैं। इन्हें सही मानें तो 1 से 6 अप्रैल के बीच इन कब्रिस्तानों में 127 जनाजे पहुंचे, जबकि मार्च में इन्हीं चार कब्रिस्तानाें में 130 शवों को दफनाया गया था।
हालांकि मुक्तिधामों में भी शव पहुंचे हैं, लेकिन उनका औसत सालाना औसत के बराबर ही है, खासकर अप्रैल में। कोरोना के सबसे ज्यादा मरीज खजराना, चंदन नगर, रानीपुरा-दौलतगंज-हाथीपाला, आजाद नगर, टाटपट्‌टी बाखल-सिलावटपुरा-बंबई बाजार में मिले हैं। भास्कर ने खजराना कब्रिस्तान, रानीपुरा-दौलतगंज-हाथीपाला के लिए लुनियापुरा कब्रिस्तान, बंबई बाजार, टाटपट्‌टी बाखल, सिलावटपुरा के लिए महू नाका कब्रिस्तान और चंदननगर, नूरानी नगर, बांक के लिए चंदननगर कब्रिस्तान के आंकड़े जुटाए। हालांकि शहर में कोरोना से मौत 10 ही हुई है, लेकिन इन कब्रिस्तान में पिछले 6 दिनों में ही आंकड़ा 100 पार कर गया है। जो कारण इन कब्रिस्तानों में दर्ज रजिस्टर में है, उसमें बीपी, शुगर, अटैक सहित अन्य बीमारियां लिखी है, बावजूद मार्च महीने के 31 दिन की अपेक्षा 6 दिनों के आंकड़े काफी चौंकाने वाले है। 

शहर के चार प्रमुख कब्रिस्तानों में पहुंचे जनाजों का आंकड़ा 

महू नाका कब्रिस्तान का आंकड़ा

  • 1 मार्च 31 मार्च तक 46
  • 1 अप्रैल से 5 अप्रैल तक 42

बंबई बाजार, टाटपट्‌टी बाखल से लगा लुनियापुरा कब्रिस्तान का आंकड़ा 

  • 1 मार्च से 31 मार्च तक 36
  • 1 अप्रैल से 5 अप्रैल तक 44

रानीपुरा, दौलतगंज, हाथीपाला के नजदीक खजराना कब्रिस्तान का आंकड़ा

  • 1 मार्च से 31 मार्च तक 20
  • 1 अप्रैल से 5 अप्रैल तक 20

खजराना का पूरा इलाका सिरपुर कब्रिस्तान का आंकड़ा 

  • 1 मार्च से 31 मार्च तक 28
  • 1 अप्रैल से 5 अप्रैल तक 21

चंदननगर, नूरानी नगर, बांक के पास
कोरोना से अब तक जो 10 मौतें हुई - नसरीन बी, उम्र- 53, मो. रफीक-50, मो. असलम-54, शकीना बी-80, अब्दुल हमीद-65, मो. साजिद-41, अन्य जरीन बी-49, जैतून बी- 65, शकील शेख 54 साल, एक अन्य 42 साल का युवक।

मुक्तिधामों के आंकड़े सामान्य 
निगम जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र शाखा के मुताबिक औसत 55 से 60 मरीजों की म़ृत्यू हर दिन होती है। भास्कर ने कब्रिस्तानों की तरह शहर के मुक्तिधामों की जानकारी भी जुटाई तो म़ृत्यू का आंकड़ा औसत ही आया। शहर के प्रमुख मुक्तिधाम पंचकुईया, जूनी इंदौर, तिलक नगर और मालवा मिल की पड़ताल की तो मार्च माह में यहां कुल 466 अंतिम संस्कार हुए, जबकि अप्रैल माह में 6 अप्रैल तक यह आंकड़ा 100 पर पहुंचा है। 

शहर के चार मुक्तिधाम की स्थिति 

  • तिलक नगर मुक्तिधाम - 1 मार्च 31 मार्च तक 40 (1 अप्रैल से 5 अप्रैल तक 10 )
  • पंचकुईया मुक्तिधाम - 1 मार्च 31 मार्च तक 230 (1 अप्रैल से 5 अप्रैल तक 32)
  • जूनी इंदौर मुक्तिधाम - 1 मार्च 31 मार्च तक 50 (1 अप्रैल से 5 अप्रैल तक 12 )
  • मालवा मिल मुक्तिधाम - 1 मार्च 31 मार्च तक 146 (1 अप्रैल से 5 अप्रैल तक 46)

लक्षण, मौत, बेबसी का मंजर दिखाते 3 मामले
कोरोना के लक्षणों से जूझ रहे दो ममेरे भाइयों की कहानी में एक के बाद दूसरे की मौत दुखद है। तीसरी कहानी डेढ़ साल के मासूम की है, जिसके परिवार में 3 डॉक्टर हैं। अचानक  पता चलता है कि उन्होंने 5 दिन पहले जिसका इलाज किया था वह पॉजिटिव निकला। डॉक्टर परिजन की गुहार के बाद भास्कर की पहल पर अस्पताल में भर्ती हुआ। ऐसी घटनाएं कोरोना से इंदौर की लड़ाई को कमजोर कर रही हैं।

1. ट्रैवल हिस्ट्री, पूरे लक्षण, मौत, फिर भी सैंपल नहीं
ट्रैवल हिस्ट्री वाला एक युवक अपने भाई नावेद (42) को लिए अस्पतालों में भटकता रहा। हालत बिगड़ी तो निजी अस्पताल पहुंचे पर यह कहा गया कि सिर्फ पॉजिटिव मरीज भर्ती कर रहे। टीबी अस्पताल गए तब तक देर हो चुकी थी। उसने दम तोड़ दिया। फिर भी सैंपल नहीं लिया।

2. भाई के मौत, दहशत में चली गई दूसरे की जान
नावेद के ममेरे भाई इरफान (48) की श्रीनगर में मेडिकल है। उन्हें 26 मार्च को सांस लेने में दिक्कत हुई। सीएचएल अस्पताल से बैरंग लौटा दिया गया। फिर गोकुलदास में भर्ती हुए। 27 को चल बसे। हालांकि रिपोर्ट निगेटिव आई। भाई ने कहा कि इरफान तो दहशत में ही चले गए।

3. मासूम को बमुश्किल मिल पाया इलाज
खजराना निवासी डेढ़ साल के आरिज के दादा डाॅ. अब्दुल गनी अंसारी को 24 मार्च को पता चला कि उन्होंने रानीपुरा के जिस युवक का इलाज किया था, वह पॉजिटिव है। घर में ही सबने खुदको क्वारेंटाइन कर लिया। आरिज की हालत बिगड़ने लगी। कहीं से कोई मदद नहीं मिली। भास्कर की पहल पर तब डॉ. प्रवीण जड़िया ने गोकुलदास अस्पताल में इलाज शुरू किया। 

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही है। व्यक्तिगत और पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। बच्चों की शिक्षा और करियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी आ...

    और पढ़ें